Raj Express
www.rajexpress.co
युवक को निर्वस्त्र कर निकाला जुलूस
युवक को निर्वस्त्र कर निकाला जुलूस|Ankur Srivastava
मध्य प्रदेश

गुना: चोरी के आरोप में युवक को निर्वस्त्र कर निकाला जुलूस

गुना: ग्राम बलरामपुरा में मानवता की सारी हदें पार करते हुए गांव के लोगों ने एक युवक को बेरहमी से मारपीट कर उसे निर्वस्त्र कर जूतों की माला पहनाकर रोड पर जुलूस निकाला, इस पर पुलिस ने मामला दर्ज किया।

Ankur Srivastava

राज एक्‍सप्रेस। गुना में पहली बार मॉब लिंचिंग की कोशिश करने का मामला सामने आया है। जामनेर थाना अंतर्गत ग्राम बलरामपुरा में मानवता की सारी हदें पार करते हुए गांव के लोगों ने एक युवक को बेरहमी से मारपीट कर उसे निर्वस्त्र कर जूतों की माला पहनाकर रोड पर जुलूस निकाल दिया। फरियादी के छोटे भाई देवेंद्र भील पुत्र बापूलाल भील ने जानकारी दी कि, उसके भाई कमल भील को 18 तारीख को उनारसी जाते समय बलरामपुर के कुछ युवकों ने पकड़ लिया। मोटरसाइकिल चोरी के आरोप में उसकी बेरहमी से मारपीट की। बताया कि, उसके पास मोबाइल में 5-6 वीडियो है, जिसमें उसके भाई को यह बेरहमी से मार रहे हैं। उसको नंगा करके गांव में जूतों की माला पहनाकर घुमा रहे हैं। इस मामले में पुलिस ने 7 ज्ञात और 10-15 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला कायम किया है।

पुलिस बोली-आरोपी गिरफ्तार होंगे :

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, बलरामपुरा में कमल भील की मारपीट कर निर्वस्त्र कर जूतों की माला पहनाकर घुमाने के मामले में सात ज्ञात और 10-15 अज्ञात, लोगों के खिलाफ धारा 342, 294, 323, 506, 147, 149 के तहत मामला पंजीबद्ध किया गया है, जिन लोगों पर मामला दर्ज किया गया है उनमें- कमल भील, प्रकाश भील, राकेश भील, संतोष भील, आदि शामिल हैं। इस संबंध में जामनेर थाना प्रभारी नरेंद्र गोयल ने बताया कि, पुरुष को निर्वस्त्र कर घुमाने के मामले में अभी ऐसी कोई धारा ज्ञात नहीं है। यदि ऐसा कुछ हुआ, तो विवेचना में धारा बढ़ाई जाएगी और आरोपी शीघ्र गिरफ्तार किए जाएंगे। जिस व्यक्ति को बलराम पुरा में निर्वस्त्र कर घुमाया गया था, उसने बताया कि, मेरे को 1 दिन और 1 रात बंधक बनाकर रखा गया और मारा-पीटा गया।

बेरहमी से पीटा, पहनाई जूतों की माला:

मारपीट करने के बाद उन लोगों ने उसके कपड़े निकाल दिए और हाथ बांधकर निर्वस्त्र करके उसको जूतों की माला पहनाकर गांव की सड़कों पर घुमाया। इस बात की जानकारी परिजनों को लगी, तो उन लोगों ने परिजनों को भी धमकाया और पुलिस में रिपोर्ट करने के लिए नहीं जाने दिया। घटना 18 तारीख को दिन के 2:30 बजे की है। यह लोग रिपोर्ट करने के लिए भी नहीं निकलने दे रहे थे। शुक्रवार को डायल 100 पर फोन लगाया और गाड़ी आई तब भाभी श्रीमती संतोष बाई, भाई लक्ष्मण, कमल भील व पिता बापूलाल डायल 100 की मदद से रिपोर्ट करने जामनेर थाने पहुंचे।