महादेव बेटिंग ऐप मामला
महादेव बेटिंग ऐप मामलाRaj Express

Mahadev Betting App Case : महादेव बेटिंग ऐप मामले में कांग्रेस को राहत, कोर्ट में असीम दास ने बदला बयान

Mahadev Betting App Scam : ED ने कैश पहुंचाने के आरोप में असीम दास और पुलिस आरक्षक भीम सिंह यादव को 2023 छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण के चार दिन पहले 3 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया था।

हाइलाइट्स

  • विशेष कोर्ट में असीम दास ने बदला बयान।

  • दास ने पत्र में कहा - मुझे फंसाया जा रहा है।

  • दास की न्यायिक हिरासत सात दिन के लिए बढ़ी।

(हिमांशु सिंह बघेल) छत्तीसगढ़। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में महादेव बेटिंग ऐप के मामले में गिरफ्तार आरोपी असीम दास ने विशेष अदालत में अपना बयान बदला दिया है। उसने कोर्ट में कहा कि उसने कभी भी किसी नेता को पैसा नहीं पहुंचाया, उसे फंसाया जा रहा है। ED ने कैश पहुंचाने के आरोप में असीम दास और पुलिस आरक्षक भीम सिंह यादव को 2023 छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण के चार दिन पहले 3 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया था।

बेटिंग ऐप एजेंट के वकील ने कहा कि -

एजेंट असीम दास के वकील शोएब अल्वी ने बताया कि कोर्ट ने सुनवाई के बाद उनकी न्यायिक हिरासत सात दिन के लिए बढ़ा दी है। आगे अल्वी ने बताया कि असीम ने जेल से ईडी के निदेशक को एक पत्र लिखा था और इसकी कॉपियां 17 नवंबर को PMO ऑफिस और अन्य अधिकारियों को भी भेजी गई। पत्र में कहा गया है कि उसे महादेव बेटिंग ऐप मामले में फंसाया जा रहा है और जांच एजेंसी ने उसे अंग्रेजी में लिखे बयान पर साइन करने के लिए मजबूर किया, उसे अंग्रेजी भाषा की समझ नहीं है।

दास ने लिखे हुए पत्र में क्या कहा ?

असीम दास ने अपने पत्र में कहा है कि वह इस साल अक्टूबर में शुभम सोनी के बुलाने पर दो बार दुबई गया था, सोनी उसके बचपन का दोस्त था। यात्रा की व्यवस्था सोनी ने की थी। ईडी के अनुसार सोनी महादेव नेटवर्क के मुख्य आरोपियों में से एक है। आगे वकील अल्वी ने बताया कि दास ने पत्र में कहा है कि सोनी छत्तीसगढ़ में एक कंस्ट्रक्शन बिज़नेस शुरू करना चाहता था और उसने दास को अपने लिए काम करने कहा था। सोनी ने दास को पैसों की व्यवस्था करने का वादा किया था।

अल्वी ने कहा, जब दास को गिरफ्तार किया गया था, उसे रायपुर एयरपोर्ट की पार्किंग में खड़ी एक कार लेने और रायपुर के वीआईपी रोड पर एक होटल में जाने के लिए कहा गया था। बाद में उसे कार को सड़क पर पार्क करने के लिए कहा गया, जहां एक व्यक्ति ने कैश से भरा बैग कार में रखा और चला गया। दास ने पत्र में कहा है, ‘‘मुझे फोन पर होटल के कमरे में वापस जाने के लिए कहा गया और कुछ ही देर में ED के अधिकारी मेरे कमरे में आए और मुझे अपने साथ ले गए। बाद में मुझे एहसास हुआ कि मुझे फंसाया जा रहा है।साथ ही कहा ’’मैंने कभी भी किसी नेता या कार्यकर्ता को धन या कोई अन्य सहायता नहीं दी है।”

एजेंट असीम दास की गिरफ्तारी के बाद ED ने दावा किया था कि फॉरेंसिक विष्लेशण और दास के बयान से यह जानकारी मिली है कि महादेव सट्टेबाजी ऐप के प्रमोटर ने अब तक सीएम बघेल को 508 करोड़ रुपये दिए हैं, जो कि जांच का विषय है। ED ने ये भी कहा था कि महादेव ऐप के प्रमोटर्स ने दुबई से दास को कांग्रेस पार्टी को पैसे पहुंचाने के लिए ही भेजा था। हालांकि, CM भूपेश बघेल ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था और उन्हें बदनाम करने के लिए बीजेपी की साजिश बताई थी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co