महादेव सट्टा ऐप मामले पर बिलासपुर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई
महादेव सट्टा ऐप मामले पर बिलासपुर हाईकोर्ट में हुई सुनवाईRE

महादेव सट्टा ऐप मामले पर बिलासपुर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई, कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

बिलासपुर हाई कोर्ट में हवाला कारोबारी सुनील और अनिल दम्मानी की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने दोनों की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा है।

हाइलाइट्स-

  • महादेव सट्टा ऐप मामले पर बिलासपुर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई।

  • बिलासपुर हाईकोर्ट ने फैसला रखा है सुरक्षित।

बिलासपुर, छत्तीगढ़। महादेव ऐप मामले पर छत्तीसगढ़ में लगातार कार्रवाई जारी है। इसी बीच इस मामले पर आज बुधवार को बिलासपुर हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। बता दें, बिलासपुर हाई कोर्ट में हवाला कारोबारी सुनील और अनिल दम्मानी की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने दोनों की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा है।

बता दें कि, हाल ही में कुछ दिनों पहले महादेव सट्टा ऐप मामले में दोनों भाईयों को ईडी ने गिरफ्तार किया था। रायपुर की ईडी के स्पेशल कोर्ट से जमानत याचिका हुई खारिज थी, जिसके बाद हाई कोर्ट के जस्टिस एनके चंद्रवंशी की कोर्ट में जमानत पर सुनवाई हुई थी।

क्या है पूरा मामला:

दरअसल, महादेव सट्टा एप मामले में दोनों दम्मानी भाइयों पर करोड़ों का हवाला करने का आरोप लगाया है। ईडी ने दोनों आरोपियों को अगस्त माह के आखिरी हफ्ते में गिरफ्तार किया था। 23 अगस्त 2023 को ईडी की टीम ने रायपुर और दुर्ग में छापेमारी कर प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत हवाला कारोबारी अनिल और सुनील दम्मानी समेत एएसआई चंद्रभूषण वर्मा, सतीश चंद्राकर को गिरफ्तार किया था।

वहीं, ईडी ने आरोपियों की 2 बार रिमांड ली थी। पूछताछ पूरी होने के बाद आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया था। इसके बाद कोर्ट ने सभी आरोपियों को ज्यूडिशियल रिमांड पर जेल भेज दिया था।

वहीं, प्रदेश में सरकार बदलने के बाद से ही महादेव सट्टा ऐप के जुड़े हुए लोगों पर कार्यवाही तेज हो गई है। बीजेपी के प्रवक्ता गौरीशंकर श्रीवास का कहना है कि, चुनाव के पहले हमने प्रदेश की जनता से वादा किया था कि, महादेव सट्टा ऐप से जुड़े लोगों पर सख्त कार्यवाही होगी, जिन लोगों ने प्रदेश को बर्बाद करने की कोशिश की थी उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। नजरबंद किए गए लोगों को जब छत्तीसगढ़ लाया जाएगा, तो कई परते खुलेंगे, कई कांग्रेसी नेता और आईएएस आईपीएस अधिकारियों जो लोग सिंडीकेट बनाकर काम किया सारे राज का खुलासा होगा कोई दोषी बख्शा नहीं जायेगा।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co