कॉमरेड हेमला सोमलु (रवि, वसंत)
कॉमरेड हेमला सोमलु (रवि, वसंत) RE-Bhopal

Special Story: पढ़िए उस शख्स की कहानी जो नक्सलियों के लिए 26 साल तक तैयार करता रहा सैकड़ों हथियार और बम

Naxalite Hemla Somlu Ravi Basant: नक्सलियों के लिए 26 साल तक सैकड़ों हथियार, बारूद और बम बनाने वाले शख्स की कहानी किसी फिल्म की स्क्रिप्ट से कम रोचक नहीं है।

Naxalite Hemla Somlu Ravi Basant: नक्सली संगठन की मुख्य ताकत उनके हथियार बनाने की क्षमता है। वह अपने गोला, बारूद और अपने पारम्पारिक हथियारों के दम पर कई बड़े हमले करते है। नक्सलियों के लिए 26 साल तक सैकड़ों हथियार, बारूद और बम बनाने वाले शख्स की कहानी किसी फिल्म की स्क्रिप्ट से कम रोचक नहीं है। अब इस शख्स की मौत के बाद नक्सलियों की हथियार यूनिट के प्रभारी की जगह खाली हो गई है और नक्सली चिंता में है कि इस जगह को कैसे भरा जायेगा।

आइये जानते है नक्सलियों के हथियार यूनिट के प्रभारी (Hemla Somlu Ravi Basant) के पैदा होने से लेकर इस दुनिया से विदा होने तक की कहानी। कॉमरेड वसंत बीजापुर जिला गंगालूर थाना में जन्म हुआ था। उनकी का नाम माँ बण्डी और पिता सन्नू हैं। काफी छोटी उम्र में हेमला सोमलु (रवि, वसंत) भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) की विचारधारा से प्रभावित होकर उनके लिए काम करने लगे थे। साल 1997 में नक्सली संगठन में कामरेड वसंत को लोगों के बीच नक्सली अभियान की जानकारी सही तरीके से पहुंचाने की जिम्मेदारी दी। उस समय वह (बासागुड़ा दल) में भर्ती हुए थे।

1999 में हथियारों पर काम :

नक्सली संगठन को नियंत्रित करने वाली भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के शीर्ष पदाधिकारियों के प्रस्ताव का साल 1999 में हेमला सोमलु (रवि, वसंत) को संगठन में शामिल सदस्यों को हथियार सम्बन्धी जानकारी उपलब्ध कराने और चलाने की जिम्मेदारी दी गई। यही से हेमला सोमलु (रवि, वसंत) ने हथियारों को लेकर अपनी रूचि को बढ़या और फिर धीरे धीरे नक्सली संगठन के हथियार यूनिट तक पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने कई बड़े हमलों को लीड किया और रणनीति तैयार की। हेमला सोमलु (रवि, वसंत) की हथियार के उपयोग की समझ की वजह से संगठन उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपता रहा।

सलवा जुडूम के खिलाफ बड़े हमलों में शामिल :

हेमला सोमलु (रवि, वसंत) ने अपनी सूझ-बूझ से सलवा जुडूम के खिलाफ लगातार अभियान चालया और कई बड़े हमले करवाएं जिसमे प्रमुख रूप से उरपलमेट्टा, ताडमेट्ला. तोंगगुड़ा, बट्टीगुडा हमलें शामिल है। इसके अलावा भी संगठन के बड़े फैसलों में वसंत का दखल रहा।

कब क्या दी जिम्मेदारी :

  • 2005- टेकनिकल विभाग में सैकड़ों हथियार, गोला-बारूद तैयार करना शुरू किये।

  • 2008- कम्पनी-2 कमाण्डर एवं सचिव के तौर पर प्रमोशन

  • 2014- कम्पनी -2 को राजनीतिक, सांगठनिक सैनिक तौर से शिक्षित करते हुए चलाने में कॉमरेड वसंत का मुख्य योगदान रहा। कम्पनी कमाण्डर व सीवाईपीसी सचिव एवं सब जोनल कमाण्ड सदस्य रह कर अपने जिम्मेदारी सम्भाला।

  • 2015- कॉमरेड वसंत बटालियन-1 में सीवाईपीसी, बीएनपीसी सदस्य के रूप में कार्य।

  • 2015- इसी साल नक्सली संगठन में वसंत को आर्टिलारी (हथियार यूनिट) को विकसित करने की जिम्मेदारी सौंपी। तब से लेकर अब तक नकसली वसंत ने हजारों सेल्स, सैकड़ों लांचर्स(हथियार) बनाकर नकसली संगठन को मजबूत किया।

  • 2021- वसंत को हथियार यूनिट का प्रभारी बनाया गया। तबसे वह अपनी मौत (3 मई 2023) तक हथियार यूनिट के प्रभारी बने रहे। नक्सली वसंत को हथियार और बम बनाने में निपुणता हासिल थी।

कॉमरेड वसंत के अधूरे मकसद को करेंगे पूरा: माओवादी

हेमला सोमलु (रवि, वसंत) की मौत के बाद भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के दक्षिण सब जोनल ब्यूरो ने बयान जारी कर कहा कि नक्सली वसंत के अधूरे मकसद को पूरा करेंगे। गौरतलब है कि वसंत की मौत 3 मई को गंभीर बीमारी के चलते हो गई।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co