मंदिर प्रवेश के कारण BSNL ने महिला को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति
मंदिर प्रवेश के कारण BSNL ने महिला को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति|Social Media
भारत

मंदिर प्रवेश के कारण BSNL ने महिला को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति

सबरीमाला में भगवान अयप्पा के मंदिर में घुसने वाली अधिकार कार्यकर्ता रेहाना फातिमा को भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का निर्देश दिया है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। दक्षिण भारत के विश्वप्रसिद्ध मंदिर सबरीमाला में भगवान अयप्पा के मंदिर का मामला कुछ न कुछ मुद्दे को लेकर हमेशा चर्चा में बना रहता है, अब हाल ही में इसी से जुड़ी यह खबर सामने आई है कि, भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने भगवान अयप्पा के मंदिर में घुसने वाली अधिकार कार्यकर्ता रेहाना फातिमा को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का निर्देश दिया है।

BSNL द्वारा अपने आदेश में कही ये बात :

दरअसल, बीएसएनएल ने अपने आदेश में यह बात कही है कि, रेहाना फातिमा के कृत्य को लेकर आंतरिक जांच के बाद यह फैसला लिया गया है। वह यहां बीएसएनएल में टेलीकॉम तकनीशियन है। फातिमा ने सोशल मीडिया पोस्ट के माध्यम से भक्तों की धार्मिक भावनाओं को जानबूझकर आहत किया था।

इसके अलावा सूत्रों द्वारा प्राप्‍त जानकारी के अनुसार आज शुक्रवार को यह बताया गया है कि, वर्ष 2018 के नवंबर माह में फातिमा की गिरफ्तारी के बाद वह पिछले 18 महीनों से निलंबित चल रही थीं। इसी दौरान जांच पैनल ने ये बात उजागर हुई कि, फातिमा ने अनुशासन का पालन नहीं किया और जिसकी उन्हें यह सजा मिली है।

रेहाना फातिमा की कंपनी को चुनौती :

वहीं, रेहाना फातिमा द्वारा कंपनी की इस कार्रवाई को लेकर यह चुनौती दी है और कहा कि, वह केरल उच्च न्यायालय और केंद्रीय प्रशासिनक न्यायाधिकरण का दरवाजा खटखटाएंगी। उन्होंने छह महीने का उसका निलंबन बढ़ाने के बाद उसने बर्खास्तगी की आशंका जताई थी। इतना ही नहीं रेहाना फातिमा ने आरोप लगाया कि, इस कार्रवाई के पीछे राजनीतिक हस्तक्षेप है।

बता दें कि, मामला ये है कि, रेहाना फातिमा ने वर्ष 2018 में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद सबरीमाला मंदिर में जबरन प्रवेश करने की कोशिश की थी, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co