सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चा
सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चाSyed Dabeer Hussain - RE

सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

दिल्ली के AICC मुख्यालय में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में वर्तमान राजनीतिक स्थिति, आगामी विधानसभा चुनाव एवं कांग्रेस पार्टी के स्थाई अध्यक्ष को लेकर चर्चा...

हाइलाइट्स :

  • AICC मुख्यालय में आज कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक

  • सोनिया गांधी के नेतृत्व में हुई CWC की बैठक

  • CWC बैठक में पार्टी के 52 वरिष्ठ नेता मौजूद रहे

दिल्‍ली, भारत। देश के पांच राज्‍यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले आज शनिवार को नई दिल्ली के AICC मुख्यालय में कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक हुई। यह बैठक आज सुबह 10 बजे शुरू हुई।

वह ही कांग्रेस की स्थायी अध्यक्ष हैं :

दरअसल, कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक में राहुल गांधी, सोनिया गांधी, अशोक गहलोत, आनंद शर्मा समेत पार्टी के 52 वरिष्ठ नेता मौजूद रहे और बैठक में वर्तमान राजनीतिक स्थिति, आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा के साथ ही कांग्रेस पार्टी के स्थाई अध्यक्ष को लेकर भी बात हुई। फिलहाल कांग्रेस पार्टी के स्थाई अध्यक्ष पद को लेकर कांग्रेस की अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने साफ यह बात कही है कि, ''वह ही कांग्रेस की स्थायी अध्यक्ष हैं। उन्होंने हर मामले को गंभीरता से सुना और सुलझाया है। मीडिया के जरिए उनसे बात करने की जरूरत नहीं है।''

पार्टी के अंदर विशेषतौर पर युवाओं की भागीदारी बढ़ी है। चाहें वह किसानों का मुद्दा हो, महामारी के दौरान राहत पहुंचाना हो या फिर युवाओं व महिलाओं का मुद्दा हो।

कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने बताया- सार्वजनिक क्षेत्र के न केवल सामरिक और आर्थिक उद्देश्य रहे हैं, बल्कि इसके सामाजिक लक्ष्य भी हैं, लेकिन ये सब मोदी सरकार के बेचो, बेचो, बेचो के सिंगल-पॉइंट एजेंडे के चलते ख़तरे में हैं।

  • सहकारी संघवाद केवल एक नारा बनकर रह गया है और केंद्र गैर-भाजपाई शासित राज्यों को नुकसान में रखने का कोई मौका नहीं छोड़ती है।

  • हाल ही के दिनों में, जम्मू-कश्मीर में हत्याओं के मामलों में अचानक उछाल आया है। अल्पसंख्यकों को स्पष्ट रूप से निशाना बनाया गया है। इसकी कड़ी से कड़ी निंदा की जानी चाहिए।

  • प्रधानमंत्री ने पिछले साल विपक्ष को बताया था कि चीन ने हमारे क्षेत्र पर कोई कब्जा नहीं किया है और तब से उनकी चुप्पी हमारे देश को महंगी पड़ रही है।

  • विदेश नीति चुनावी संचालन और ध्रुवीकरण का एक द्वेषपूर्ण जरिया बन गई है। हम अपनी सीमाओं और अन्य मोर्चों पर गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

लखीमपुर घटना ने भाजपाई मानसिकता को उजागार किया :

इसके अलावा कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में लखीमपुर हिंसा को लेकर हुई चर्चा के दौरान सोनिया गांधी ने कहा- हाल ही में, लखीमपुर-खीरी की भयावह घटना ने भाजपाई मानसिकता को उजागार किया है कि वो किसान आंदोलन को कैसे देखती है, किसानों द्वारा अपने जीवन और आजीविका की रक्षा के लिए इस दृढ़ संघर्ष से कैसे निपटती है।

बता दें कि, पिछले दिनों कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाने की मांग की थी। इसके बलावा कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद ने तो सोनिया गांधी को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि, कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई जाए और पार्टी के संगठनात्मक चुनाव और आतंरिक मामलों पर चर्चा की जाए। इसी के बाद आज कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co