सीआरपीएफ का 83वां स्थापना दिवस आज
सीआरपीएफ का 83वां स्थापना दिवस आजSyed Dabeer Hussain - RE

सीआरपीएफ का 83वां स्थापना दिवस आज, जानिए इतिहास और भूमिका

आजाद भारत के एकीकरण में भी सीआरपीएफ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। आज हम सीआरपीएफ के गठन से लेकर इसकी महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बात करेंगे।

राज एक्सप्रेस। सीआरपीएफ यानी सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (Central Reserve Police Force) की स्थापना को आज 83 साल हो चुके हैं। इस मौके पर देश के गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों को शुभकामनाएं दी हैं। सीआरपीएफ भारत संघ का प्रमुख केंद्रीय पुलिस बल है। यह केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन काम करता है। सीआरपीएफ देश के भीतर कानून और व्यवस्था बनाए रखने में मदद करता है। इसके अलावा किसी आपातकालीन स्थिति में भी सीआरपीएफ के जवानों की मदद ली जाती है। सीआरपीएफ के जवानों ने कई महत्वपर्ण मौकों पर अपनी बहादुरी का परिचय दिया है। आजाद भारत के एकीकरण में भी सीआरपीएफ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। तो चलिए आज हम सीआरपीएफ के गठन से लेकर इसकी महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बात करेंगे।

सीआरपीएफ की स्थापना :

दरअसल सीआरपीएफ की स्थापना (CRPF Raising Day) मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के एक छोटे से शहर नीमच (Neemuch) में 27 जुलाई 1939 को हुई थी। उस समय सीआरपीएफ का नाम क्राउन रिप्रजेंटेटिव पुलिस हुआ करता था। देश की आजादी के बाद तत्कालीन गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) ने इसका नाम बदलकर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) कर दिया था।

भारत के एकीकरण में योगदान :

देश की आजादी के बाद जूनागढ़, कठियावाड़ जैसी रियासतों ने भारत में शामिल होने से इंकार कर दिया था। ऐसी स्थिति में इन क्षेत्रों का भारत में विलय करने में सीआरपीएफ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

चीनी हमले को किया नाकाम :

21 अक्टूबर 1959 को चीनी सैनिकों ने लद्दाख के हॉट स्प्रिंग पर हमला कर दिया था। उस समय वहां गश्त कर रही सीआरपीएफ की टुकड़ी ने उनके हमले को नाकाम कर दिया था। इस दौरान सीआरपीएफ के 10 जवान शहीद हो गए थे। उनकी याद में हर साल 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस (Police Commemoration Day) मनाया जाता है।

विदेशों में भी निभाई महत्वपूर्ण भूमिका :

सीआरपीएफ की 13 कंपनियों ने भारतीय शांति सेना के साथ श्रीलंका में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसके आलवा सीआरपीएफ ने हैती, नामीबिया, सोमालिया और मालदीव जैसे देशों में भी संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के एक अंग के तौर पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co