Raj Express
www.rajexpress.co
बंगाल में चक्रवात बुलबुल से हालत नाज़ुक
बंगाल में चक्रवात बुलबुल से हालत नाज़ुक |एएनआई
भारत

बंगाल में आया चक्रवात 'बुलबुल', केन्द्र ने दिया मदद का भरोसा

9 नवंबर की रात पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों से टकराया चक्रवात बुलबुल। बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान ने ली 24 लोगों की जान।

प्रज्ञा

प्रज्ञा

राज एक्सप्रेस। शनिवार, 9 नवंबर की रात पश्चिम बंगाल के समुद्री तट से चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' टकराया। यह तूफान बंगाल की खाड़ी से उठा है। राज्य के तटीय इलाकों में ज़ोरदार तेज हवाएं चल रही हैं। जिनकी चपेट में आने से तीन जिलों पूर्व मेदिनीपुर, उत्तर 24 परगना तथा दक्षिण 24 परगना में अब तक चार लोगों की मौत हो चुकी है।

तूफान प्रभावित इलाकों में राहत व बचाव दल मुस्तैदी से अपना काम कर रहे हैं। अत्याधिक बारिश के चलते कोलकाता के कुछ हिस्सों में जलभराव की स्थिति पनपी है, इससे लोगों को यातायात एवं कहीं भी आने-जाने में परेशानी हो रही है। हालांकि, अब इस तूफान के कमजोर होने की खबरें सामने आ रही हैं।

तूफान के चलते राजधानी कोलकाता में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर शनिवार शाम छह बजे से अगले 12 घंटे के लिए उड़ानों के संचालन को स्थगित कर दिया गया है। इसका का असर बांग्लादेश और ओड़िशा के कुछ हिस्सों पर भी पड़ा है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राहत और बचाव कार्य की तैयारियों का जायजा लेने के लिए शनिवार को कंट्रोल रूम का दौरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तूफान बुलबुल के मद्देनजर राज्य की स्थिति को लेकर ममता से बातचीत की। उन्होंने मुख्यमंत्री को केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एहतियात के तौर पर प्रभावित जिलों से लगभग 1 लाख 58 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मौसम विभाग की मानें तो रविवार दोपहर बाद मौसम की स्थिति में सुधार होने की संभावना है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने प्रेस रिलीज़ के ज़रिए चक्रवात बुलबुल के बंगाल की खाड़ी से उठने की पुष्टि की। साथ ही इससे बचाव के लिए चेतावनी जारी की।

चक्रवात बुलबुल शनिवार रात आठ बजे के करीब बंगाल में सागरदिघी व बकखाली के बीच स्थित तटवर्ती इलाके से टकराया। इसके प्रभाव से कोलकाता सहित उत्तर व दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली, पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर इलाकों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से शांति बनाए रखने व आतंकित नहीं होने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट कर लोगों से प्रशासन का साथ देने और सजग रहने के लिए कहा।

एक और ट्वीट में उन्होंने समीक्षा बैठक को स्थगित करने की जानकारी दी। बुलबुल चक्रवात की वजह से यह निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री ने 11 नवंबर सोमवार को सभी मंत्रियों और विभागीय अधिकारियों को लेकर समीक्षा बैठक बुलाई थी। बैठक में सभी मंत्रियों और विभागीय अधिकारियों को उपस्थित रहने का निर्देश दिया गया था।

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य सरकार को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, पूर्वी भारत में आए चक्रवात की वो बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने ये भी लिखा कि वो केन्द्रीय और राज्य की राहत एवं बचाव कार्य एजेन्सियों से लगातार सम्पर्क में हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब करें।@rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।