कृषि, पशुपालन के क्षेत्र में डेयरी ने प्रगति के नए अवसर दिए : नरेन्द्र मोदी

मोदी ने कहा कि जैसे-जैसे सिंचाई की सुविधाओं का गुजरात में विस्तार हुआ वैसे-वैसे कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में हमने बहुत विकास किया और डेयरी ने उसे बहुत बड़ी ताकत दी,और प्रगति के नए अवसर भी दिए।
कृषि, पशुपालन के क्षेत्र में डेयरी ने प्रगति के नए अवसर दिए : मोदी
कृषि, पशुपालन के क्षेत्र में डेयरी ने प्रगति के नए अवसर दिए : मोदीSocial Media

हिम्मतनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने गुरुवार को कहा कि जैसे-जैसे सिंचाई की सुविधाओं का गुजरात (Gujarat) में विस्तार हुआ वैसे-वैसे कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में हमने बहुत विकास किया और डेयरी ने उसे बहुत बड़ी ताकत दी, अर्थ व्यवस्था को स्थिरता दी, सुरक्षा भी दी और प्रगति के नए अवसर भी दिए।

उन्होंने कहा, "आजकल हम गुजरात के कई हिस्सों में अतिवर्षा की चुनौती से जूझ रहे हैं। लेकिन गुजराती के लिए बारिश आना अपने आप में इतना बड़ा सुख और संतोष होता है जिसका अंदाजा बाहर के लोगों को नहीं है। कारण कि अपने यहां तो 10 वर्ष में पांच साल तो दुकाल पड़ता हो, हम बरसात के लिए इंतजार कर रहे हों। जब भरपूर वर्षा हो तो मन भी भर जाए। दुकाल की स्थिति का परिणाम बारिश होती थी, तो खेती में एक फसल ले सकते। पशुपालन में भी घास-चारा मिलने की मुश्किल। ऐसे दिन हमने देखे हैं और उस समय मैंने संकल्प लिया था कि स्थिति को बदलना है। इसलिए जैसे-जैसे सिंचाई की सुविधाओं का गुजरात में विस्तार हुआ, वैसे-वैसे कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में हमनें बहुत विकास किया, वृद्धि की और डेयरी ने उसे बहुत बड़ी ताकत दी। अर्थ व्यवस्था को डेयरी ने स्थिरता भी दी, डेयरी ने सुरक्षा भी दी और प्रगति के नए अवसर भी दिए।"

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर कहा, "आज साबर डेयरी (Sabar Dairy) का विस्तार हुआ है। सैकड़ों करोड़ रुपए के नए प्रोजेक्ट यहां लग रहे हैं। आधुनिक टेक्नॉलॉजी से लैस मिल्क पाउडर प्लांट और ए-सेप्टिक पैकिंग सेक्शन उसमें एक और लाइन जुड़ने से साबर डेयरी की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी। आज इस नए प्लांट का भूमि पूजन हो रहा है। वह भी साबर डेयरी के सामर्थ्य को बढ़ाने में मदद करेगा। मैं साबर डेयरी और इस सहकारी आंदोलन से जुड़े सभी भाई-बहनों को हृदय से बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।" श्री मोदी ने गुजराती में कहा, "अने ज्यारे साबर डेयरी नी वात आवे अने भूराभाई नी याद ना आवे तो वात अधूरी रही जाय'' (जब साबर डेयरी में आते हैं तो भूराभाई को याद न करें तो बात अधूरी ही रह जाएगी ) भूराभाई पटेल ने दशकों पहले जो प्रयास शुरू किया था वह आज लाखों लोगों का जीवन बदलने में मदद कर रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co