दिल्ली AIIMS डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया ने ब्लैक फंगस को लेकर दी चेतावनी
दिल्ली AIIMS डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया ने ब्लैक फंगस को लेकर दी चेतावनीSyed Dabeer Hussain - RE

दिल्ली AIIMS डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया ने ब्लैक फंगस को लेकर दी चेतावनी

देश में कोरोना के साथ ब्लैक फंगस नाम की नई बला जन्म ले चुकी है। इसी बीच ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) दिल्ली के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने ब्लैक फंगस के मामलों को लेकर चेतावनी दी।

राज एक्सप्रेस। आज देश में कोरोना का आंकड़ा बेकाबू होता जा रहा है। हर दिन हजारों लोगों की जाने जा रही हैं। ऐसे में अब ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) नाम की एक और नई बला जन्म ले लिया है। अब तक कई राज्यों से इसके कुछ एक मामले सामने आ चुके हैं। इस प्रकार पूरे देश से अब तक इस प्रकार के 500 से ज्यादा मामले सामने आचुके हैं। इसी बीच ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) दिल्ली के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने ब्लैक फंगस के मामलों को लेकर चेतावनी दी है।

दिल्ली AIIMS डायरेक्टर की चेतावनी :

दरअसल, कोरोना से गंभीर रूप से पीड़ित मरीजों का इलाज करने में स्टेरॉयड का इस्तेमाल किया जा रहा है। यही कोरोना मरीजों में ब्लैक फंगस के इन्फेक्शन का कारण बन रहा है। यह कहना है दिल्ली AIIMS के डॉ. डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया का। जी हां, उन्होंने ब्लैक फंगस के मामले बढ़ने को लेकर चिंता जाहिर करते हुए शनिवार को चेतावनी दी है। उन्होंने कहा है कि,

'स्टेरॉयड के ज्यादा इस्तेमाल के कारण म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ब्लैक फंगस कुछ मात्रा में मिट्टी, हवा और खाने की चीजों पर भी हो सकता है, लेकिन इसमें बैक्टीरिया इतनी तादाद में नहीं होते कि, किसी को नुकसान पहुंचा सकें। कोरोना महामारी से पहले इसके मामले बहुत ही कम सामने आते थे, लेकिन वर्तमान में कोरोना संक्रमित मरीजों में इसकी संख्या बढ़ी है।'

डॉ. रणदीप गुलेरिया, दिल्ली AIIMS डायरेक्टर

डॉ. गुलेरिया की अपील :

बताते चलें, हेल्थ ब्रीफिंग देते समय AIIMS डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया ने अस्पतालों से इन्फेक्शन कंट्रोल प्रोटोकॉल का सकती से पालन करने की अपील करते हुए कहा, 'ऐसा न होने पर ब्लैक फंगस से मरने वाले मरीजों की संख्या बढ़ सकती है। कोरोना पीड़ित कई मरीजों को डायबिटीज (शुगर) भी होती है। ऐसे मरीजों को स्टेरॉयड देने पर उन्हें फंगल इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। इसे रोकने के लिए मरीज को स्टेरॉयड बहुत सोच समझकर दिए जाने की जरूरत है।'

AIIMS में ब्लैक फंगस के मामले :

उन्होंने यह भी जानकारी दी है कि, वर्तमान समय में दिल्ली के AIIMS हॉस्पिटल में ब्लैक फंगस के कुल 23 मरीज मौजूद है। जिनका इलाज जारी है और इसमें से 20 कोरोना से संक्रमित थे हैं। डॉ. गुलेरिया ने बताया कि, 'अब तक अलग-अलग राज्यों में इस बीमारी के 500 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। ब्लैक फंगस से चेहरे, नाक, आंख की परत और दिमाग पर असर पड़ सकता है। यह फेफड़ों में भी फैल सकता है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co