जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में सीएए के खिलाफ में हुए प्रदर्शन में पुलिस ने की थी हवाई फायरिंग।
जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में सीएए के खिलाफ में हुए प्रदर्शन में पुलिस ने की थी हवाई फायरिंग। |Social Media
भारत

दिल्ली पुलिस ने स्वीकारा, जामिया के प्रदर्शन में हुई थी फायरिंग

जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी में सीएए के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर फायरिंग करने का आरोप लगा था। दिल्ली पुलिस ने अब इस आरोप को स्वीकार लिया है।

रवीना शशि मिंज

राज एक्सप्रेस। दिल्ली पुलिस ने मान लिया है कि, जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान उन्होंने हवाई फायरिंग की थी।

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर विद्यार्थियों के साथ मारपीट, यूनिवर्सिटी में तोड़फोड़ और गोली चलाने का आरोप लगाया था। गोली चलाने वाले आरोप को पुलिस ने सिरे से खारिज कर दिया था।

पुलिस की जाँच में ये खुलासा हुआ

दिल्ली पुलिस ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करने के बाद स्वीकार लिया है कि, उन्होंने हवाई फायरिंग की थी। पुलिस जाँच में ये बात सामने आई है कि, फायरिंग से किसी को गोली नहीं लगी।

पुलिस ने माना है कि, जो वीडियो सामने आया था वो सही था और वो वीडियो मथुरा रोड का ही है। पुलिस का यह भी कहना है कि, जो दो पुलिसकर्मी फायरिंग करते दिख रहे हैं उन्होंने यह कदम सेल्फ डिफेंस में लिया। वहाँ प्रदर्शनकारी पथराव कर रहे थे और उन्होंने पुलिसकर्मियों को चारों तरफ से घेर लिया था। पुलिस की फायरिंग वाला वीडियो बीते 15 दिसंबर का है।

दिल्ली पुलिस के खिलाफ शिकायत दर्ज

बता दें कि, दिल्ली पुलिस बगैर वीसी और चीफ प्रॉक्टर यूनिवर्सिटी में घुसकर विद्यार्थियों को पीटा था और यूनिवर्सिटी की प्रॉपर्टी को नुकसान पहुँचाया था। जिसके बाद जामिया यूनिवर्सिटी की कुलपति नजमा अख्तर ने दिल्ली पुलिस अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co