असदुद्दीन ओवैसी
असदुद्दीन ओवैसीRaj Express

CAA संविधान विरोधी, यह एक कानून है जो धर्म के आधार पर बनाया गया है: असदुद्दीन ओवैसी

AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, CAA संविधान विरोधी है। यह एक कानून है जो धर्म के आधार पर बनाया गया है। CAA को NPR-NRC के साथ पढ़ा।

हाइलाइट्स :

  • CAA पर AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का बयान

  • CAA संविधान विरोधी है, यह एक कानून है जो धर्म के आधार पर बनाया गया है: ओवैसी

  • ओवैसी ने कहा, मोदी सरकार को बताना चाहिये उनकी इस देश को लेकर क्‍या पॉल‍िसी है

दिल्‍ली, भारत। लाेकसभा चुनाव 2024 से पहले एक बार फिर नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) पर सियासत छिड़ी है। अब AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का CAA पर बड़ा बयान आया है।

CAA संविधान विरोधी है :

इस दौरान AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, "CAA संविधान विरोधी है। यह एक कानून है जो धर्म के आधार पर बनाया गया है। CAA को NPR-NRC के साथ पढ़ा और समझा जाना चाहिए जो इस देश में आपकी नागरिकता साबित करने के लिए शर्तें तय करेगा। यदि ऐसा होता है तो यह घोर अन्याय होगा, विशेषकर मुसलमानों, दलितों और भारत के गरीबों के साथ, चाहे वे किसी भी जाति या धर्म के हों।"

मोदी सरकार को बताना चाहिये क‍ि उनकी इस देश को लेकर क्‍या पॉल‍िसी है? तक हम जिंदा रहेंगें 6 दिसंबर की बात करेंगें। उनकी गाड़ी पर हमला हुआ था। अब क्‍या हमें गोली मारेंगें, हम बोलते रहेंगे। 1955 में मथुरा के इदगाह को लेकर समझौता हुआ था, 6 दिसंबर को मस्जिद को शहीद किया गया।

AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी

इसके अलावा बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के डिप्‍टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के '6 दिसंबर 1992 को जब 'कार सेवकों' ने बाबरी ढांचा गिराया था, तब वहां मौजूद रहकर उन्हें गर्व और खुशी महसूस हुआ' वाले बयान पर ओवैसी ने पलटवार करते हुए कहा कि, ''इस तरह के बयान से देश में अराजकता फैलायी जा रही है। संव‍िधान के पद पर बैठकर आप बकवास कर रहे हैं। अगर ह‍िम्‍मत रखते हैं तो आप कोर्ट में जाकर कहना चाह‍िए था क‍ि बाबरी मस्‍ज‍िद को आपने तोड़ा था। सभी धर्म और जात‍ि के ल‍िए आपका नजर‍िया सभी के ल‍िए एक होना चाहिए, एक धर्म सम्‍प्रदाय के ल‍िए इस तरह की बातें एक संवैधान‍िक पद पर रहकर नहीं करनी चाह‍िए।''

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co