कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीय
कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीयRE

PM मोदी ने जारी की 'कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीय' की 11 खंडों की पहली श्रृंखला

आज पंडित मदन मोहन मालवीय की 162वीं जयंती है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीय' की 11 खंडों की पहली श्रृंखला जारी की है।

हाइलाइट्स-

  • पंडित मदन मोहन मालवीय की 162वीं जयंती आज।

  • पीएम मोदी ने जारी की 'कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीय' की 11 खंडों की पहली श्रृंखला।

  • पीएम मोदी ने कहा- महामना जिस भूमिका में भी रहे, उन्होंने हमेशा 'राष्ट्र प्रथम' के संकल्प को सर्वोपरि रखा।

दिल्ली, भारत। आज पंडित मदन मोहन मालवीय की 162वीं जयंती है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'कलेक्टेड वर्क्स ऑफ पंडित मदन मोहन मालवीय' की 11 खंडों की पहली श्रृंखला जारी की है। उन्होंने इस कार्यक्रम को संबोधित किया।

नरेंद्र मोदी ने कही यह बात:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'पंडित मदन मोहन मालवीय के संकलित कार्यों की 11 खंडों की पहली श्रृंखला का विमोचन करते हुए कहा कि, "आज का दिन भारत और भारतीयता में आस्था रखने वाले करोड़ों लोगों के लिए एक प्रेरणा पर्व की तरह होता है। आज महामना मदन मोहन मालवीय जी की जन्मजयंती है, आज ही अटल जी की भी जयंती है। मैं इस पावन अवसर पर महामना मालवीय जी के श्रीचरणों में प्रणाम करता हूं और अटल जी को आदरपूर्वक श्रद्धाजंलि देता हूं।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "अटल जी की जयंती के उपलक्ष्य में आज देश सुशासन दिवस के रूप में मना रहा है। मैं सभी देशवासियों को 'सुशासन दिवस' की भी बधाई देता हूं। आज के इस पवित्र अवसर पर पंडित मदनमोहन मालवीय संपूर्ण वाङ्गमय का लोकार्पण होना अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण है।ये संपूर्ण वाङ्गमय महामना के विचारों, आदर्शों और उनके जीवन से हमारी युवा पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी को परिचित कराने का सशक्त माध्यम बनेगा।"

उन्होंने इस मौके पर कहा कि, "महामना जैसे व्यक्तित्व सदियों में एक बार जन्म लेते हैं और आने वाली कई सदियां उनसे प्रभावित होती है। भारत की कितनी ही पीढ़ियों पर महामना का ऋण है। वो शिक्षा और योग्यता में उस समय के बड़े से बड़े विद्वानों की बराबरी करते थे। वो आधुनिक सोच और सनातन संस्कारों के संगम थे। महामना जिस भूमिका में रहे, उन्होंने 'राष्ट्र प्रथम' के संकल्प को सर्वोपरि रखा। वो देश के लिए बड़ी से बड़ी ताकत से टकराए। मुश्किल से मुश्किल माहौल में भी उन्होंने देश के लिए संभावनाओं के नए बीज बोए।"

उन्होंने कहा कि, "इसे मैं अपनी सरकार का सौभाग्य समझता हूं कि, हमने उन्हें भारत रत्न दिया। मेरे लिए तो महामना जी एक और वजह से बहुत खास हैं, उनकी तरह मुझे भी ईश्वर ने काशी की सेवा का मौका दिया है। मेरा ये भी सौभाग्य है कि 2014 में चुनाव लड़ने के लिए जब मैंने नामांकन भरा, तो उसके प्रस्ताव मालवीय जी के परिवार के सदस्य थे। आजादी के अमृतकाल में देश गुलामी की मानसिकता से मुक्ति पाकर, अपनी विरासत पर गर्व करते हुए आगे बढ़ रहा है। हमारी सरकार के कार्यों में भी आपको कहीं न कहीं मालवीय जी के विचारों की महक महसूस होगी।"

पीएम ने कहा कि, "भारत आज राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व की कई संस्थाओं का निर्माता बन रहा है। ये संस्थान, ये संस्थाएं 21वीं सदी के भारत ही नहीं बल्कि 21वीं सदी के विश्व को नई दिशा देने का काम करेंगे। Good Governance का मतलब होता है, जब शासन के केंद्र में सत्ता नहीं सेवाभाव हो। जब साफ नीयत से संवेदनशीलता के साथ नीतियों का निर्माण हो और जब बिना किसी भेदभाव के उसका पूरा हक मिले। Good Governance का यही सिद्धांत आज हमारी सरकार की पहचान बन चुका है। हमारी सरकार आज हर नागरिक के पास खुद जाकर उसे हर सुविधा दे रही है। हमारी कोशिश है कि, ऐसी हर सुविधा का सेचुरेशन हो। इसके लिए देश भर में विकसित भारत संकल्प यात्रा चलाई जा रही है।"

उन्होंने आगे कहा कि, "मोदी की गारंटी वाली गाड़ी देश के गांवों और शहरों तक पहुंच रही है। लाभार्थियों को मौके पर ही अनेक योजनाओं का लाभ मिल रहा है। शासन में आया ये बदलाव, अब समाज की सोच को भी बदल रहा है। इसलिए आज भारत में जनता और सरकार के बीच भरोसा नई बुलंदियों पर है। यही भरोसा देश के आत्मविश्वास में झलक रहा है और यही आत्मविश्वास आजादी के अमृतकाल में विकसित भारत के निर्माण की ऊर्जा बन रहा है।"

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co