राष्ट्रपति मुर्मू
राष्ट्रपति मुर्मू Raj Express

राष्ट्रपति मुर्मू ने एशिया प्रशांत फोरम की 28वीं वार्षिक आम बैठक और द्विवार्षिक सम्मेलन को किया संबोधित

दिल्‍ली के विज्ञान भवन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने एशिया प्रशांत फोरम की 28वीं वार्षिक आम बैठक और द्विवार्षिक सम्मेलन को संबोधित कर अपने संबोधन में कहीं ये बातें...

दिल्ली, भारत। राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में आज बुधवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने विज्ञान भवन में एशिया प्रशांत फोरम की 28वीं वार्षिक आम बैठक और द्विवार्षिक सम्मेलन को संबोधित किया।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा, जब मानवाधिकारों की बात आती है, तो मैं इस अवधारणा के बारे में बात करने के लिए प्रेरित होता हूं जो मेरे सार्वजनिक जीवन में हमेशा विकसित, गतिशील और मेरे दिल के काफी करीब है। जैसे-जैसे मानव जाति नैतिक और आध्यात्मिक रूप से बढ़ती है, मानवाधिकार की परिभाषा और विकसित होती जाती है। मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा के मसौदे को आकार देने में महात्मा गांधी का जीवन और विचार भी महत्वपूर्ण थे। यह उनके प्रभाव में ही था कि मानव अधिकारों की धारणा का विस्तार जीवन की बुनियादी आवश्यकताओं से लेकर जीवन की गरिमा तक भी हो गया।

हमने स्थानीय निकायों के चुनावों में महिलाओं के लिए न्यूनतम 33 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित किया। इससे भी अधिक, एक सुखद संयोग में, राज्य विधानसभाओं और राष्ट्रीय संसद में महिलाओं के लिए समान आरक्षण प्रदान करने का प्रस्ताव अब आकार ले रहा है। लैंगिक न्याय के लिए हमारे समय में यह सबसे परिवर्तनकारी क्रांति होगी। मैं आपका ध्यान लोकतांत्रिक मूल्यों और व्यक्तिगत अधिकारों के साथ भारत के ऐतिहासिक अनुभव की ओर आकर्षित करना चाहूंगा। पश्चिमी दुनिया के मैग्ना कार्टा के माध्यम से समान मानव अधिकारों की अवधारणा से परिचित होने से बहुत पहले, दक्षिणी भारत के एक श्रद्धेय संत और दार्शनिक बसवन्ना ने व्यक्तिगत स्वतंत्रता और समानता की अवधारणा को बढ़ावा दिया था।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

आगे उन्‍होंने यह भी कहा कि, मैं आपसे आग्रह करूंगा कि मानवाधिकारों के मुद्दे को अलग-थलग न करें और प्रकृति की देखभाल पर भी उतना ही ध्यान दें, जो मानव के अविवेक से बुरी तरह आहत है। भारत में, हम मानते हैं कि ब्रह्मांड का प्रत्येक कण दिव्यता की अभिव्यक्ति है। मुझे यह जानकर बेहद खुशी हुई कि एक सत्र विशेष रूप से पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन के विषय पर समर्पित है जिसका गरीब देशों के लोगों के मानवाधिकारों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co