राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मू
राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मू Raj Express

राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने विकलांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए

नई दिल्ली में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू वर्ष 2023 के लिए विकलांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए और अपने संबोधन में कही ये बातें...

हाइलाइट्स :

  • राष्ट्रपति मुर्मू ने विकलांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए

  • राष्ट्रपति ने कहा- दिव्यांग-जन के संघर्षों और उपलब्धियों के बारे में जानकर मेरा मनोबल बढ़ता है

  • अदम्य विजय भावना के बल पर भारत के दिव्यांग खिलाड़ियों ने इसी वर्ष एक नया इतिहास रचा है: राष्ट्रपति मुर्मू

दिल्‍ली, भारत। नई दिल्ली में आज रविवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू वर्ष 2023 के लिए विकलांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए। इस अवसर पर उन्‍होंने अपने संबोधन में कहा, जो दिव्यांगजन विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं, उन्हें अपनी क्षमता के अनुसार अन्य दिव्यांगजनों की मदद करनी चाहिए।

उन्‍होंन बताया कि, मुझे दिए गए आमंत्रण पत्र में यह लिखा गया था कि इस राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में मेरी उपस्थिति से दिव्यांग-जनों का मनोबल बढ़ेगा और उन्हें प्रेरणा मिलेगी। लेकिन, मैं यह कहना चाहती हूं कि इन पुरस्कार विजेताओं सहित, दिव्यांग-जन के संघर्षों और उपलब्धियों के बारे में जानकर मेरा मनोबल बढ़ता है, सभी देशवासियों का मनोबल बढ़ता है। हम सब के लिए यह प्रसन्नता और गर्व की बात है कि नए संसद भवन का प्रत्येक हिस्सा दिव्यांग-जन के लिए सुगम्य है, accessible है। इससे सीख लेकर सभी क्षेत्रों में कार्यरत लोगों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि दिव्यांग-जनों की आवश्यकताओं को आरंभ से ही ध्यान में रखा जाए और उनके लिए physical access तथा digital access सुलभ रहें। Renovation की जगह Innovation की सोच के साथ काम करना चाहिए।

अनेक चुनौतियों को पार करते हुए, उपलब्ध सुविधाओं का समुचित उपयोग करते हुए, अपनी अदम्य विजय भावना के बल पर भारत के दिव्यांग खिलाड़ियों ने इसी वर्ष एक नया इतिहास रचा है। उन्होंने Asian Para Games में 111 पदक जीतकर भारत की शान बढ़ाई है। दिव्यांगता से प्रभावित सभी खिलाड़ियों सहित बेटियों के प्रदर्शन में निरंतर उल्लेखनीय प्रगति हो रही है। केवल 16 वर्ष की आयु में शीतल देवी ने इस वर्ष के Asian Para Games में दो स्वर्ण सहित तीन पदक जीते हैं। शीतल देवी को विश्व की सर्वश्रेष्ठ तीरंदाज का दर्जा दिया गया है। सर्वाधिक प्रेरक तथ्य यह है कि बेटी शीतल देवी के दोनों हाथ नहीं हैं और वह अपने पैरों से तीरंदाजी करती है।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

आगे उन्होंने यह भी कहा कि, जम्मू-कश्मीर के श्री जावेद अहमद टाक एक आतंकी हमले में घायल होने के बाद wheel-chair से चलते-फिरते हैं। वे पिछले दो दशकों से दिव्यांग बच्चों की शिक्षा और कल्याण के लिए कार्यरत हैं। दिव्यांग-जनों को वे संदेश देते हैं: Be A Part, Not Apart यानी भिन्न नहीं, अभिन्न बनो।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co