सौरभ भारद्वाज
सौरभ भारद्वाजRaj Express

CBI जांच का हम स्वागत करते हैं, मगर स्वास्थ्य सचिव को केंद्र क्यों बचा रहा: सौरभ भारद्वाज

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने सरकारी अस्पतालों में नकली दवाओं की आपूर्ति मामले की CBI जांच को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

हाइलाइट्स :

  • दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की

  •  सीबीआई जांच का हम स्वागत करते हैं, मगर स्वास्थ्य सचिव को केंद्र क्यों बचा रहा: सौरभ भारद्वाज

दिल्‍ली, भारत। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने आज शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्‍होंने भाजपा का निशाने पर लेते हुए जोरदार हमला बोला। साथ ही सरकारी अस्पतालों में नकली दवाओं की आपूर्ति मामले की CBI जांच को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने कहा कि, सीबीआई जांच का हम स्वागत करते हैं, मगर स्वास्थ्य सचिव को केंद्र क्यों बचा रहा है? मंत्री बनते ही दवाओं के ऑडिट के निर्देश दिए, मगर स्वास्थ्य सचिव ने कोई ऑडिट नहीं करवाई। उन्होंने मांग की कि, हेल्थ सेक्रेटरी दीपक कुमार को तत्काल हटाया जाये। उन्होंने पहले ही इस अधिकारी को हटाने के लिए LG से बोल चुके हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा- BJP के झूठ का पर्दाफ़ाश, LG साहब के दफ़्तर से खबर दी गई थी कि दिल्ली सरकार के 43 दवाइयों के सैंपल दिल्ली सरकार के 3 अस्पतालों से लिये गये जिसमें से 5 Not Standard Quality की पाई गई, लेकिन कहीं भी ऐसा नहीं लिखा गया कि ये दवाइयाँ नक़ली हैं या ज़हरीली हैं जैसा BJP कह रही थी। अख़बारों ने भी लिखा कि फेक मेडिसिन घोटना जबकि वो ऐसा नहीं लिख सकते फेक तो तब होती जब एक कंपनी ने मेडिसिन बनानी थी लेकिन दूसरी कंपनी ने बना कर दवा दे दी ये उनकी गलती नहीं है, ये उस constitutional office ने खबर plant की है कि ये नक़ली दवा है।

जो कंपनी दिल्ली सरकार के अस्पतालों में दवाइयाँ देती हैं वही केंद्र सरकार के अस्पतालों में भी देती हैं वही दवाइयाँ BJP शासित हरियाण और उत्‍तर प्रदेश के अस्पतालों में भी देती हैं ये एक Normal स्टैण्डर्ड प्रैक्टिस है जो अस्पतालों में होती रहती है और अगर कोई दवाई क्वालिटी पर खरी नहीं उतरती तो उस दवाई का पूरा Batch वापस कर, कंपनी को नया Batch देने को कहा जाता है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज

  • जब मैंने CPA से पूछा, तो उन्होंने बताया कि Pantoprazole 2022-23 में 12/281 Sample Below Standard पाए गए 2023-24 में 20/651 Sample Below Standard पाए गए Levetiracetam Samples में भी दवाई सही मात्रा में थी, Dissolution Test में Fail हुई Amlodipine में भी दवा की Salt सही है, लेकिन Stabilising agent सही मात्रा में नहीं पाया गया एक Dexamethasone Steroid है उसमें Salt कम पाया गया। लेकिन एक भी Case में कोई नकली दवा का Claim नहीं है, दवा Spurious नहीं।

  • दिल्ली की जनता को आपके माध्यम से आश्वस्त करना चाहते हैं, कि BJP अफ़वाह फैला रही है कुछ दवाइयां, कुछ टेस्ट not of standard quality आते ही हैं, वो Batch Return होता है — AIIMS में भी होंगे। दवाइयां ना तो Fake हैं, ना Spurious हैं। जो ऊपर नीचे मात्रा है, उसपर कार्रवाई होगी, जैसे हमेशा से होती रही है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co