ULFA और केंद्र सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर
ULFA और केंद्र सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षरRaj Express

असम के भविष्य के लिए सुनहरा दिन- ULFA और केंद्र सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के वार्ता समर्थक गुट ने केंद्र और असम सरकार के साथ त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस बारे में अमित शाह और CM हिमंता बिस्व सरमा की प्रतिक्रिया आई है।

हाइलाइट्स :

  • ULFA और केंद्र सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

  • असम के सभी हथियारी गुटों की बात को यहीं समाप्त करने में हमें सफलता मिल गई है: अमित शाह

  • मोदी के कार्यकाल और गृह मंत्री अमित शाह के मार्गदर्शन में असम की शांति प्रक्रिया निरंतर जारी है: CM हिमंता बिस्व सरमा

दिल्ली, भारत। केंद्र सरकार को असम और पूर्वोत्तर के संंबंध में आज एक बड़ी सफलता मिली। दरअसल, आज शुक्रवार को यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) और केंद्र सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए, जो असम के लिए ऐतिहासिक है। दिल्ली में यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के वार्ता समर्थक गुट द्वारा आज केंद्र और असम सरकार के साथ त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उपस्थित रहे।

असम के भविष्य के लिए सुनहरा दिन :

केंद्र और असम सरकार के साथ त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की प्रतिक्रिया आई है, जिसमें उन्‍होंने कहा, "मेरे लिए बहुत हर्ष का विषय है कि आज असम के भविष्य के लिए एक सुनहरा दिन है। लंबे समय तक असम और पूरे उत्तर-पूर्व ने हिंसा झेली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में ही उग्रवाद, हिंसा और विवाद मुक्त उत्तर-पूर्व भारत की कल्पना लेकर गृह मंत्रालय चलता रहा है... भारत सरकार, असम सरकार और ULFA के बीच जो समझौता हुआ है, इससे असम के सभी हथियारी गुटों की बात को यहीं समाप्त करने में हमें सफलता मिल गई है। ये असम और उत्तर-पूर्वी राज्यों की शांति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।"

आज असम के लिए एक ऐतिहासिक दिन :

तो वहीं, असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने कहा कि, "आज असम के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल और गृह मंत्री अमित शाह के मार्गदर्शन में असम की शांति प्रक्रिया निरंतर जारी है।"

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co