किसान आंदोलन पर प्रस्तावित समिति में व्यापारियों को शामिल करने की मांग
किसान आंदोलन पर प्रस्तावित समिति में व्यापारियों को शामिल करने की मांगSocial Media

किसान आंदोलन पर प्रस्तावित समिति में व्यापारियों को शामिल करने की मांग

अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ ने किसान आंदोलन पर गठित होने वाली प्रस्तावित समिति में व्यापारियों को भी शामिल करने की मांग की है।

राज एक्सप्रेस। परिसंघ ने केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को बृहस्पतिवार को एक पत्र भेजकर कहा है कि खाद्य आपूर्ति श्रृंखला में व्यापारी एक महत्वपूर्ण कड़ी है इसलिए प्रस्तावित समिति में व्यापारियों के प्रतिनिधि संगठन अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ के प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जाना चाहिए।

परिसंघ के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि किसान आंदोलन पर समिति गठित करने के उच्चतम न्यायालय के आदेश का व्यापारी परिसंघ स्वागत करता है। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों के संबंध में महत्वपूर्ण पक्षों में से एक होने के नाते परिसंघ को भी गठित होने वाली समिति में एक पक्षकार बनाया जाना चाहिए, उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के कारण, आपूर्ति श्रृंखला पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है और देश भर के करोड़ों व्यापारी आंदोलन से प्रभावित हो रहे हैं। इसलिए परिसंघ की समिति में समावेश व्यापारियों के दृष्टिकोण को रखने के लिए उपयुक्त है।

श्री खंडेलवाल ने कहा कि देश में बड़ी संख्या में व्यापारी कृषि से जुड़ी व्यावसायिक गतिविधियों में लगे हुए हैं मंडियों और मंडियों के बाहर काम करने वाले व्यापारी, किसानों को उनकी फसल के लिए , परिवहन, अनेक कृषि वस्तु, खाद्यान्न, कृषि उपकरण और औजार, खाद्य प्रसंस्करण, खाद्यान्न बीज का व्यापार, कीटनाशक, उर्वरक, कृषि वाहन, कृषि यंत्रों के स्पेयर पार्ट्स, और उपकरण, वाहनों के कलपुर्जे, मोटर, रबड़ और प्लास्टिक पाइप, परिवहन और रसद सहित अन्य अनेक सामान जो खेती की सामान्य प्रक्रिया से जुड़े हैं और किसानों को उनकी खेती एवं फसलों के एवज में राशि मुहैया कराते हैं।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co