भारतीय नौसेना का ऐतिहासिक कदम- जंगी जहाज पर 2 महिला ऑफिसर्स की तैनाती

भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर पहली बार 2 महिला ऑफिसर्स सब-लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी तथा सब-लेफ्टिनेंट रिति सिंह की महत्‍वपूर्ण तैनाती दी है।
भारतीय नौसेना का ऐतिहासिक कदम- जंगी जहाज पर 2 महिला ऑफिसर्स की तैनाती
भारतीय नौसेना का ऐतिहासिक कदम- जंगी जहाज पर 2 महिला ऑफिसर्स की तैनातीSocial Media

नई दिल्‍ली। महिलाओं का जज्बा और जुनून हर क्षेत्र में अपनी मिसाल पेश कर रहा है, आज फिर एक ऐतिहासिक अवसर आया। भारतीय नौसेना में लिंग-समानता को साबित करने वाले एक कदम के तहत पहली बार जंगी जहाज पर 2 महिला ऑफिसर्स की तैनाती होने वाली है। जी हां, भारतीय नौसेना ने पहली बार हेलीकॉप्टर स्ट्रीम में दो महिलाओं को तैनात करने का फैसला किया है।

इतिहास में पहली बार 2 महिलाओं को वॉर शिप पर तैनात :

दरअसल, भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को 'ऑब्जवर्स' (एयरबोर्न टैक्टिशियंस) के रूप में तैनाती दी गई है। भारतीय नौसेना के इतिहास में पहली बार दो महिला अफसरों को वॉर शिप पर तैनात किया जाएगा। नौसेना ने इस ऐतिहासिक कदम के लिए 17 ऑफिसर्स में से इन 2 को चुना है।

डिफेंस स्टेटमेंट में बताया गया कि, दोनों महिलाएं नौसेना के 17 अधिकारियों के एक समूह का हिस्सा हैं, जिनमें 4 महिला अधिकारी और भारतीय तटरक्षक के 3 अधिकारी शामिल हैं, जिन्हें आज आईएनएस गरुड़ में आयोजित एक समारोह में 'ऑब्जर्वर्स' के रूप में तैनाती को लेकर 'विंग्स' से सम्मानित किया गया। ग्रुप में नियमित बैच के 13 अधिकारी और शॉर्ट सर्विस कमीशन बैच की 4 महिला अधिकारी शामिल थीं। समारोह की अध्यक्षता चीफ स्टाफ ऑफिसर (ट्रेनिंग) रियर एडमिरल एंटनी जॉर्ज ने की, जिन्होंने अधिकारियों को पुरस्कार और प्रतिष्ठित 'विंग्स' भेंट किए।

यह एक ऐतिहासिक अवसर है, जिसमें पहली बार महिलाओं को हेलीकॉप्टर ऑपरेशंस का प्रशिक्षण दिया जा रहा, जो अंततः भारतीय नौसेना के युद्धपोतों में महिलाओं की तैनाती का मार्ग प्रशस्त करेगा।

रियर एडमिरल एंटनी जॉर्ज

बयान के अनुसार, 91वें नियमित कोर्स और 22वें एसएससी ऑब्जर्वर कोर्स के अधिकारियों को हवाई नेविगेशन, उड़ान प्रक्रियाओं, हवाई युद्ध में नियोजित रणनीति, पनडुब्बी रोधी युद्ध आदि का प्रशिक्षण दिया गया। ये अधिकारी भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल के समुद्री टोही और पनडुब्बी रोधी युद्धक विमानों की सेवा करेंगे।

हालांकि, भारतीय नौसेना कई महिला अधिकारियों को भर्ती करती रही है, लेकिन अब तक महिला अधिकारियों को युद्धपोतों पर लंंबे अरसे के लिए तैनात नहीं किया गया है, जिसके पीछे कई कारण हैं- क्रू क्वार्टरों में निजता की कमी तथा महिलाओं के लिए विशेष बाथरूम व्यवस्था की उपलब्धता न होना।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co