WHO रिपोर्ट: हर्षवर्धन ने बढ़ाया भारत का वैश्विक गौरव
WHO रिपोर्ट: हर्षवर्धन ने बढ़ाया भारत का वैश्विक गौरव|Priyanka Sahu -RE
भारत

WHO रिपोर्ट: हर्षवर्धन ने बढ़ाया भारत का वैश्विक गौरव

जापान के डॉक्टर की जगह पर अब भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन 22 मई से WHO में कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभालेंगे।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। दुनियाभर में घातक कोरोना वायरस की महामारी का कहर बरकरार है, जिसमें भारत देश भी शामिल है। यहां भी कोविड-19 का संक्रमण तेजी से फैल रहा है, लेकिन कोरोना संकट के बीच भारत का वैश्विक गौरव बढ़ रहा है, क्‍योंकि भारत को वैश्विक स्तर पर एक बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है।

दरअसल, कोरोना महामारी से जूझ रहा भारत देश इस वक्‍त कोरोना को हराने के लिए बड़े कदम उठा रहा है, साथ दुनिया के देशों की मदद भी कर रहा है। इसी बीच भारत को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में एक बड़ी जिम्‍मेदारी निभाने का पद मिला है। अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन WHO कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभालने वाले हैं। डब्लूएचओ के मुताबिक, भारत में COVID-19 की जंग के खिलाफ डॉक्टर हर्षवर्धन अहम भूमिका निभा रहे है और सबसे आगे खड़े लोगों में से हैं।

22 मई को संभालेंगे कार्यभार :

कोरोना संकट के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन जल्द ही आगामी 22 मई को WHO कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष का कार्यभार संभालेंगे और वह जापान के डॉक्टर हिरोकी नकाटनी की जगह लेंगे, जो WHO के 34 सदस्यों के बोर्ड के वर्तमान अध्यक्ष हैं।

भारत तीन साल तक संभालेगा ये कार्यकाल :

बता दें कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक्जीक्यूटिव बोर्ड के चेयरमैन का पद कई देशों के अलग-अलग ग्रुप में एक-एक साल के हिसाब से दिया जाता है। इसी के चलते इस बार WHO की बैठक में भारत की तरफ से नामित किए गए, डॉ. हर्षवर्धन को नियुक्त करने का प्रस्ताव पर बीते दिन यानी कल 19 मई को मुहर लगाई गई एवं 194 देशों ने प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किया। परंतु WHO के दक्षिण-पूर्व एशिया समूह ने पिछले साल ही सर्वसम्मति से ये निर्णय लिया था कि, शुक्रवार (22 मई) से शुरू होने वाले पहले वर्ष के लिए भारत को तीन साल के कार्यकाल के लिए कार्यकारी बोर्ड के लिए चुना जाएगा।

WHO की साल में 2 बार होती है बैठक :

WHO के एक अधिकारी द्वारा बताया गया कि, यह पूर्णकालिक जिम्मेदारी नहीं है और मंत्री को केवल कार्यकारी बोर्ड की बैठकों की अध्यक्षता करने की आवश्यकता होगी। इस कार्यकारी बोर्ड में 34 सदस्य होंगे, जो तकनीकी रूप से स्वास्थ्य के क्षेत्र से होंगे। WHO की बैठक बोर्ड साल में कम से कम 2 बार होती है और मुख्य बैठक जनवरी में आम तौर पर होती है।

डॉ. हर्षवर्धन के जीवन से जुड़े कुछ खास पहलू :

जानकारी के लिए ये भी बताते चले कि, डॉ. हर्षवर्धन मूल रूप से देश की राजधानी दिल्ली के निवासी हैं, जो नाक, कान और गले के रोगों के स्पेशलिस्ट डॉक्टर हैं। इसके अलावा हर्षवर्धन द्वारा अक्टूबर 1994 में ‘पोलियो उन्मूलन योजना’ का शुभारंभ किया, जो सफल रहा, इसके बाद इसे भारत सरकार द्वारा पूरे देश में अपनाया गया और पोलियो कार्यक्रम की कामयाबी पर इन्‍हें WHO से भी सम्मान प्राप्त हो चुका है, उनकी इसी उपलब्धि की अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी तारीफ कर चुके हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co