सावधान: डॉ.गुलेरिया ने बताया- CT स्कैन करा कर बड़ा खतरा मोल ले रहे मरीज
सावधान: डॉ.गुलेरिया ने बताया- CT स्कैन करा कर बड़ा खतरा मोल ले रहे मरीजTwitter

सावधान: डॉ.गुलेरिया ने बताया- CT स्कैन करा कर बड़ा खतरा मोल ले रहे मरीज

दिल्ली AIIMS केे निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने आज सीटी स्कैन कराने वाले मरीजों के लिए ये संदेश दिया- आप खुद को रेडिएशन के संपर्क में ला रहे हैं। इससे बाद में कैंसर होने की संभावना बढ़ सकती है...

दिल्‍ली, भारत। देश में कोरोना की दूसरी लहर मेंं कोरोना के बढ़ते मामलों से जबरदस्‍त हाहाकार मचा हुआ है। संक्रमित मरीजों की संख्‍या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है, ऐसे में अस्‍पतालों में बेड व ऑक्‍सीजन की भारी कमी जैसे हालात पैदा हो गए हैं। तो वहीं, कोरोना की चपेट में आने वाले लोग टेंशन में आकर इस कदर घबरा रहे कि, कुछ भी उपाय कर रहे, जो ज्यादा घातक सिद्ध हो रहा है। इस बीच दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुवर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) केे निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने बार-बार सीटी स्कैन कराने वाले मरीजों के लिए ये संदेश दिया है।

गुलेरिया ने कहा- बड़ा खतरा मोल रहे :

दरअसल, एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने आज बेवजह सीटी स्कैन कराने वाले कोरोना मरीजों को सावधान करते हुए यह बताया है कि, जो भी मरीज बार-बार सीटी स्कैन करा रहे हैं वो जान लें कि, वो एक बड़ा खतरा मोल रहे हैं। इस दौरान एम्स के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने यह भी कहा- आजकल बहुत ज़्यादा लोग सीटी स्कैन करा रहे हैं। जब सीटी स्कैन की जरूरत नहीं है, तो उसे कराकर आप खुद को नुकसान ज़्यादा पहुंचा रहे हैं क्योंकि आप खुद को रेडिएशन के संपर्क में ला रहे हैं। इससे बाद में कैंसर होने की संभावना बढ़ सकती है। सीटी-स्कैन और बायोमार्कर का दुरुपयोग किया जा रहा है।

हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन कराने में कोई फायदा नहीं है। एक सीटी-स्कैन 300 छाती एक्स-रे के बराबर है, यह बहुत हानिकारक है।
दिल्‍ली एम्स के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया

छाती में दर्द हो तो एकदम डॉक्टर से संपर्क करें :

एम्स के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने ये भी सलाह दी है कि, ''होम आइसोलेशन में रह रहे लोग अपने डॉक्टर से संपर्क करते रहें। सेचुरेशन 93 या उससे कम हो रही है, बेहोशी जैसे हालात हैं, छाती में दर्द हो रहा है तो एकदम डॉक्टर से संपर्क करें।''

वायरस इंसान से ही इंसान में फैल रहा :

आगे एम्स के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने ये भी बताया कि, ''वायरस का म्यूटेंट कोई भी हो हम कोविड उपयुक्त व्यवहार रखें। वायरस इंसान से ही इंसान में फैल रहा है और ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल भी वो ही हैं।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co