बिहार: CM नीतीश कुमार ने डिजिटल रैली में अपनी सरकार की गिनाई उपलब्धियां
बिहार: CM नीतीश कुमार ने डिजिटल रैली में अपनी सरकार की गिनाई उपलब्धियां|Twitter
पूर्व भारत

बिहार: CM नीतीश कुमार ने डिजिटल रैली में अपनी सरकार की गिनाई उपलब्धियां

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने आज पहली डिजिटल रैली के साथ चुनाव अभियान का बिगुल फूंका, इस दौरान सूबे के मुखिया ने अपनी सरकार की उपब्धियों को गिनाया।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

बिहार, भारत। बिहार में चुनावी सरगर्मी तेज हो चली है, राज्‍य में सत्तारूढ़ पार्टी जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने आज 7 सितंबर से पहली डिजिटल रैली के साथ चुनाव अभियान का बिगुल फूंका है।

चुनाव प्रचार की शुरुआत :

बिहार विधानसभा चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज से अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत की। उन्होंने 'निश्चय संवाद रैली' के जरिए बिहार की जनता को संबोधित किया, इस दौरान सूबे के मुखिया नीतीश कुमार ने अपनी सरकार की उपब्धियों को गिनाया।

CM नीतीश ने बताए कोरोना को लेकर उठाए गए बड़े कदम :

  • कोरोना का जो दौर चला उस पर मार्च से हम लोगों ने ध्यान देना शुरू कर दिया था। सब लोगों को सचेत रहना चाहिए। लॉकडाउन में हमने लोगों को प्रेरित किया। लॉकडाउन खत्म होने के बाद अनलॉक-1 शुरू हुआ। एक-2 चीज पर हम लोगों ने ध्यान दिया है।

  • कोरोना से अगर किसी की मृत्यु होती है तो राज्य सरकार ने 4 लाख रुपये की मदद का प्रावधान किया है।

  • राज्य में पर्याप्त संख्या में आईसीयू बेड हैं, अस्पताल हर स्थिति के तैयार हैं। मेडिकल किट, डॉक्टर से परामर्श सुविधा, काल सेंटर के माध्यम से भी लोगों को परामर्श दिया जाता है।

  • आज बिहार में प्रतिदिन 1 लाख 50 हजार से ज्यादा कोरोना जांच हो रही है। सबसे ज्यादा जांच एंटीजन टेस्ट से हो रही है। जांच में शीघ्रता के लिए राज्य सरकार 10 आरटीपीसीआर मशीन खरीद रही है।

  • कोरोना संक्रमण के दौरान हमने रोजगार सृजन पर ध्यान दिया। कृषि आधारित उद्योग के लिए नई नीति बनाई।

  • नई पीढ़ी को बताएं कि पहले सड़कों की हालत क्या थी, सिर्फ़ 835 किमी सड़क थी। अब टोला तक सड़क बनाई गयी हैं जनता को सब मालूम होना चाहिए।

बाढ़ को लेकर सरकार ने उठाए कदम :

CM नीतीश कुमार ने कहा- बाढ़ आयी, फिर सूखा आया, फिर बाढ़ आयी। 83 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ प्रभावित हुए। सामुदायिक किचन से पूरे राज्य में 10 लाख लोगों को खाना खिलाया। साथ ही कोरोना की जाँच भी करवायी। बाढ़ की वजह से 16 से भी ज्यादा जिले प्रभावित। हम air dropping के माध्यम से लोगों को राशन पहुंचा रहे हैं। सामुदायिक रसोई के माध्यम से सब को खाना खिलाया जा रहा है। जरा याद कीजिये कि आपदा के वक़्त पहले क्या करते थे।

  • बिजली का क्या हाल था 700 मेगा वाट की खपत थी। हमने कहा था बिजली पर काम नहीं करेंगे तो वोट नहीं मांगने जाऊंगा। हमने बिजली को हर घर से जोड़ा। अब बिजली है अब लालटेन की जरुरत नहीं।

  • हम लोगों ने बिहार में सांप्रदायिक सदभाव का काम किया है। हमने कब्रिस्तान की घेराबंदी का कार्य किया। मंदिर की रक्षा के लिए दीवारों के निर्माण किया।

  • गंभीर अपराध के मामले में बिहार का स्थान 23वें नम्बर पर है, कभी बिहार पहले नम्बर पर हुआ करता था, ये उपलब्धि है।

  • 15 साल पहले नरसंहार होता था, अब कानून का राज है। शाम होने से पहले लोग घर से नहीं निकलते थे, अब देखिए।

बिहार शिक्षा का मूल प्रदेश है हम लोग इस पर और भी काम कर रहे हैं। हमने जिला स्तर पर एजुकेशन को बेहतर बनाया। शिक्षकों के लिए वेतन में 15 प्रतिशत की वेतन वृद्धि, विद्यार्थियों के लिए स्टूडेंट क्रेडिट योजना सहित शिक्षा को और बेहतर करने की योजनाएं हैं।

मुख्‍यमंत्री नीतिश कुमार

इस दौरान मुख्‍यमंत्री नीतिश कुमार ने ये भी बताया, बिहार में कृषि की उत्पादकता बढ़ी है। 13 जिलों में जैविक खेती का काम शुरू किया गया है। कृषि के क्षेत्र में सबसे ज्यादा विकास करना हमारा कर्तव्य है। फसल अवशेष यानी पराली जलाने के लिए मना कर रहे हैं। कृषि आधारित उद्योगों को बढ़ावा दे रहे हैं। पहले शिशु मृत्यु दर प्रति हजार 61था, हमारे काम संभालने के बाद 32 हुआ। हमने चमकी बुखार पर भी काम किया। बिहार में डॉक्टर और नर्स की बहाली हुई है और भी करेंगे। हेल्थ सेक्टर में हमने बहुत काम किया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co