Raj Express
www.rajexpress.co
Bihar Rainfall
Bihar Rainfall|Social Media
पूर्व भारत

मानसून ने जाते-जाते बिहार में मचाई तबाही, सड़कें बनी तालाब

बिहार: यहां बाढ़-बारिश के कहर से हालात बिगड़े हुए हैं और अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। पटना के 80% घरों में पानी घुसा है, सड़कें तालाब बन गई हैं, कई इलाकों में लोग बिजली व पानी के लिए तरस रहे हैं।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • राजधानी पटना में भारी बारिश-बाढ़ से मची तबाही।

  • बिहार में रेल से लेकर बिजली-अस्पताल जैसी सेवाएं बुरी तरह प्रभावित।

  • शहर के 80% घरों में घुसा पानी, अब तक 29 लोगों की मौत।

  • भारी बारिश के कारण रेड, ऑरेंज व येलो अलर्ट किया जारी।

  • पटना की चारों नदियां 'सोन-गंगा-गंडक-पुनपुन' खतरे के निशान से ऊपर।

राज एक्‍सप्रेस। मानसून ने जाते-जाते बिहार की राजधानी पटना में तबाही (Bihar Rainfall) मचाई हुई हैं, यहां के कई इलाकों में पिछले 4 दिनों में हुई भारी बारिश के कहर से हाहाकार मच गया, हालात बद से बदत्‍तर स्थिति मेंं आ गए हैं व बिहार में लगातार हो रही बारिश से बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं।

80% घरों में घुसा पानी, 29 लोगों की मौत :

राज्य में बाढ़ व बारिश से हालात बिगड़े हुए हैं और अब तक करीब 29 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि कुछ रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के पूर्वी इलाकों में मरने वालों की संख्या 100 तक पहुंच चुकी है। पटना के लगभग 80% घरों में पानी घुस गया है, सड़कें तालाब बन गई हैं। यहीं नहीं यहां के कई इलाकों में 36 घंटे से बिजली और पीने केे पानी के लिए लोग तरस रहे हैं। साथ ही बिहार में स्कूल-कॉलेज एहतियातन बंद कर दिये गये हैं व पटना में सभी रेल प्लेटफॉर्म पानी में डूब चुके हैं। कई इलाकों सहित पूर्व JDU नेता अजय आलोक के घर में भी पानी घुस गया हैं।

Bihar Rainfall
Bihar Rainfall
Priyanka Sahu -RE

राहत-बचाव कार्य जारी :

मौसम विभाग द्वारा पटना समेत राज्य के कई इलाकों में आज 30 सितंबर को तेज बारिश हो सकती है, साथ ही पटना में जल कर्फ्यू जैसी स्थिति है। सरकार ने 1000 से भी अधिक नावों को राहत और बचाव कार्य में लगाया गया है, लेकिन अभी भी कुछ प्रभावित क्षेत्रों में कई ऐसी जगह हैं, जो अभी भी राहत कार्य का इंतजार कर रही हैं।

नदियां खतरे के निशान से ऊपर :

मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटे के मौसम पुर्वानुमान में आमतौर पर बादल छाए रहने के साथ गरज के साथ भारी बारिश की संभावना जताई गई है, जिससे बाढ़ की स्थिति और खराब हो सकती है। राजधानी पटना की चारों नदियां 'सोन-गंगा-गंडक-पुनपुन' खतरे के निशान से ऊपर हैं।

पुनपुन नदी से सतर्क रहें, हालात बिगड़ सकते हैं, हालांकि राज्य सरकार ने पटना से पानी निकालने के लिए कोल इंडिया से 2 डीवाटरिंग पंप एवं आबादी को निकालने और उनके बीच फूड पैकेट का वितरण करने के लिए एयरफोर्स से 2 हेलिकॉप्टर की भी मांग की है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

शहरों में हाई अलर्ट जारी :

वहीं आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि, सोमवार को डीवाटरिंग पंप और चॉपर आ जाएंगे। बिहार में बारिश आफत बन गई हैं, साथ ही यहां के शहरों में हाई अलर्ट जारी किया गया हैं, बिहार के 14 जिलों में रेड, 7 जिलों में ऑरेंज व 6 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया हैं, जानिए कहां कौन सा अलर्ट जारी हैं।

इन 14 जिलों को रेड कैटेगरी में रखा :

इनमें सुपौल, अररिया, किशनगंज, बांका, समस्तीपुर, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णिया, दरभंगा, भागलपुर, खगड़िया, कटिहार, वैशाली और मुंगेर शामिल हैं, यहां के जिलों में 210 एमएम बारिश की उम्मीद हैं।

ऑरेंज व यलो अलर्ट इन जिलों में जारी :

सोमवार को 7 जिलों में दरभंगा, समस्तीपुर, बेगूसराय, भोजपुर, बक्सर, जमुई व लखीसराय में ऑरेंज अलर्ट किया गया है, यहां 120 से 200 एमएम वर्षा की उम्मीद है। वहीं 6 जिलों में पटना, जहानाबाद, अलवर, बक्सर, नालंदा व भोजपुर जिले में यलो अलर्ट जारी किया गया है। यहां के 6 जिलों में 70 से 110 एमएम बारिश होने की उम्मीद है।

45 सालों बाद ऐसा जल-जमाव :

बता दें कि, इस बार की बारिश ने सन 1975 में आई बाढ़ की याद दिला दी है, उस समय पटना शहर डूब गया था और इस बार करीब 45 सालों बाद ऐसा जल-जमाव देखने को मिला है।