स्टर्लिंग बायोटेक मामले पर अहमद पटेल के घर ED टीम की पूछताछ
स्टर्लिंग बायोटेक मामले पर अहमद पटेल के घर ED टीम की पूछताछ|Priyanka Sahu -RE
भारत

दिल्‍ली:स्टर्लिंग बायोटेक मामले पर अहमद पटेल के घर ED टीम की पूछताछ

दिल्‍ली में स्टर्लिंग बायोटेक मामले की पूछताछ के लिए आज ED की टीम अहमद पटेल के घर पहुंची और उनसे मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत पूछताछ की जा रही है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

दिल्ली, भारत। भारत में बैंक घोटाले के मामले की कुछ न कुछ खबर सामने आती ही रहती है और इन सबके बीच संदेसरा बंधुओं (स्टर्लिंग बायोटेक फार्मा) से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले की पूछताछ के लिए आज शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय की टीम कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद अहमद पटेल के घर पहुंची हैं।

ये है आरोप :

दरअसल, आरोप ये है कि, संदेसरा ग्रुप के मालिक चेतन और नितिन संदेसरा अहमद पटेल के काफी करीबी हैं, इसी के चलते आज प्रवर्तन निदेशालय उनके पूछताछ की है, हालांकि इससे पहले अहमद पटेल के बेटे फैजल और दामाद इरफान सिद्दीकी से भी पूछताछ की गई थी। वहीं वर्ष 2017 में गुजरात की स्टर्लिंग बायोटेक फार्मा कंपनी पर करोड़ों रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगा था। इस कंपनी के प्रमोटर चेतन और नितिन संदेसरा हैं और वर्ष 2019 के अगस्त के माह में अहमद पटेल के बेटे फैसल से भी इस बारे में पूछताछ की जा चुकी है।

जानकारी के अनुसार, अहमद पटेल से मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत पूछताछ की जा रही है। बताया जाता है कि, जांच के दौरान संदेसारा मामले के एक मुख्य गवाह ने चेतन संदेसरा, अहमद पटेल, उनके बेटे फैसल पटेल और उनकी वकील बेटी मुमताज से शादी करने जा रहे इरफान सिद्दीकी के बीच संबंधों को लेकर खुलासे किए।

तीन साल पुराना है ये मामला :

गौरतलब है कि, ये मामला तीन साल पहले यानी वर्ष 2017 में सामने आया था। 14 हजार 500 करोड़ रुपये के बैंक ऋण में धोखाधड़ी से जुड़े इस मामले में आरोपी नितिन संदेसरा, चेतन संदेसरा और दीप्ति संदेसरा फरार चल रहे हैं।

आरोप है कि, स्टर्लिंग बायोटेक के नाम पर आंध्रा बैंक से 5000 करोड़ का कर्ज लिया गया था, कई नोटिस जारी होने के बावजूद भी कंपनी प्रमोटर्स ने रकम वापस नहीं की। इसी के चलते बैंक ने इसकी शिकायत CBI से की, इसके बाद जब प्रवर्तन निदेशालय को इस मामले की जांच के आदेश दिए तो ईडी ने दिल्ली और गाजियाबाद में 7 स्थानों पर छापेमारी की थी, जिन लोगों के यहां छापेमारी की गई थी, वो पटेल के करीबी बताए गए थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co