केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण
केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण|Social Media
भारत

वित्त मंत्री सीतारमण ने पेश किए नागरिकता के नए आंकड़े

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशव्यापी रूप से विरोध-प्रदर्शन है जारी, कानून को लेकर बोली वित्तमंत्री सीतारमण, आरोपों को बताया बेबुनियाद।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशव्यापी रूप से विरोध-प्रदर्शन है लगातार जारी, इन सब के बीच चेन्नई में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कानून को लेकर कही बात, साथ ही आंकड़ों को पेश करते हुए केन्द्र पर लगाए आरोपों को निराधार बताया। कहा कि- पिछले 6 सालों में अब तक हजारों शरणार्थियों को नागरिकता दी गई है।

कई आंकड़े किए पेश :

कार्यक्रम के दौरान वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आंकड़े पेश करते हुए बताया कि, पिछले 6 सालों के केन्द्र सरकार के कार्यकाल में हजारों शरणार्थियों को नागरिकता दे दी गई है जिसमें साल 2016 से 2018 के दौरान पाकिस्तान के 2838, अफगानिस्तान के 914, बांग्लादेश के 172 शरणार्थियों को नागरिकता दी गई है इसमें कई मुसलमान भी शामिल हैं। इसके अलावा भारत ने 1964 से 2008 के बीच 4 लाख तमिल शरणार्थियों को भी नागरिकता दी। साथ ही कहा कि, इसमें अदनान सामी और तसलीमा नसरीन जैसे लोगों को भी भारतीय नागरिकता दी गई है।

केंद्र पर लगाए आरोपों को बताया निराधार :

वहीं समस्त आंकड़ों को पेश करने के बाद विपक्ष द्वारा कानून को लेकर केंद्र पर लगाए आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि, हमारे खिलाफ जो भी भेदभाव या भ्रांतियां फैलायी जा रही हैं, आरोप लगाए जा रहे हैं वो सारे गलत हैं, इस कानून को लाने का उद्देश्य लोगों के जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास है। इससे सरकार किसी भी व्यक्ति की नागरिकता छीन नहीं रही है बल्कि नागरिकता देने के लिए ये कानून लाया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co