Raj Express
www.rajexpress.co
Honey Trap Case
Honey Trap Case|Kavita Singh Rathore -RE
भारत

हनी ट्रैप मामले में हुआ चौथे गैंग का खुलासा

हनी ट्रैप मामले में हुआ चौथे गैंग का पर्दाफाश, गैंग में 6 पुलिसकर्मी शामिल होने की खबर सामने आई। पुलिस ने किये 13 मोबाईल जब्त। मामले में SIT चीफ ने कमलनाथ से मुलाकात की, आरोपियों से करेगी पूछताछ।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • हनी ट्रैप ने लिया फिर नया मोड़

  • दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और UP पहुंचे तार

  • हनी ट्रैप मामले में हुआ चौथे गैंग का खुलासा

  • कृषि विभाग में था गैंग सक्रिय

  • इंदौर पुलिस को आरोपी महिला ने बताये बड़े राज

राज एक्सप्रेस। हनी ट्रैप मामला (Honey Trap Case) दिन प्रतिदिन नया मोड़ लेता जा रहा है, इसके तार मध्य प्रदेश से जुड़ते-जुड़ते अब दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश तक पहुंचते जा रहे है। शुरूआत में यह मामला मध्यप्रदेश से सामने आया था, इसके बाद हनी ट्रैप का नाम पहले छत्तीसढ़ से जुड़ा फिर महाराष्ट्र और अब इस मामले में उत्तर प्रदेश का नाम भी सामने आ रहा है। खबरों के अनुसार, इस हनी ट्रैप गिरोह में शामिल लोगों ने 2013 से 2019 तक का समय दिल्ली में बिताया था, इस गिरोह ने राजनेताओं और अधिकारियों से अपनी पहचान बना कर रखी थी।

हुआ चौथे गैंग का खुलासा :

पुलिस ने लगातार जांच पड़ताल से अब चौथे गैंग का पर्दाफाश किया है, इस गैंग में 7 महिलाएं थी। इस मामले पर SIT चीफ ने CM कमलनाथ से मुलाकात की है, SIT एक रिटायर्ड चीफ से भी इस मामले में पूछताछ कर सकती है। पुलिस ने इस गैंग में शामिल 7 महिलाओं और 5 पुरूषों को राजवंश कॉलोनी से गिरफ्तार कर लिया है। इनके पास से कुल 13 मोबाईल फोन भी बरामद हुए, जो पुलिस ने अपने पास रख लिए है। इससे पहले करोल और कोलार इलाको में छापेमारी के दौरान खुलासा हुआ कि, निशातपुरा और कोलार गैंग में एक TI और 6 पुलिसकर्मी भी शामिल थे। इन्होंने साथ मिल कर 2 कारोबारियों को ब्लैकमेल कर उनसे 5 लाख रूपये लिए थे।

भोपाल का मामला :

हनी ट्रैप मामले की पड़ताल के दौरान प्रमुख सचिव और बिल्डर का सीधा सम्बन्ध इस गैंग से नजर आया। मंत्रालय के प्रमुख सचिव ने ग्वालियर में रहने वाले एक बिल्डर के साथ मिलकर सीनियर IAS का वीडिओ बनाने की साजिश रची थी। इस मामले में सचिवालय में शिकायत दर्ज की गई है। इस साजिश में ग्वालियर के बिल्डर ने पुरुष आरोपी की पत्नी से सीनियर IAS का वीडिओ बनवाया था। इस वीडियो के आधार पर वह पोस्टिंग और ट्रांसफर जैसे कई सरकारी कार्य करवाते थे। यह बिल्डर मंत्रालय में आरोपी पुरूष और उसकी पत्नी के साथ पूरा दिन रहता था, गैंग प्रमुख सचिव सबसे ज्यादा कृषि विभाग में सक्रिय रहती थी। इस मामले में 2 फोन नंबर सामने आये हैं जिनसे काफी लंबी-लंबी बातें हुआ करती थी। इस कमाई द्वारा विदेश यात्राएं भी की गई हैं। इस सांठगांठ की शिकायत कमलनाथ से की गई।

इंदौर पुलिस कर रही लगातार पूछताछ :

इंदौर पुलिस द्वारा लगातार पूछताछ से कई राज सामने आ रहे है, इन्ही गैंग में शामिल एक आरोपी ने भी कई राज खोले, जो अब तक खामोश थी, पुलिस को इस मामले से जुड़े कई लेपटॉप और मोबाईल फोन मिले है, जिनकी जांच चल रही है।