गहलोत का लम्पी स्किन रोग के प्रभावी नियंत्रण में सहयोग का केन्द्र से आग्रह
गहलोत का लम्पी स्किन रोग के प्रभावी नियंत्रण में सहयोग का केन्द्र से आग्रहMedia

गहलोत का लम्पी स्किन रोग के प्रभावी नियंत्रण में सहयोग का केन्द्र से आग्रह

अशोक गहलोत ने राज्य के विभिन्न जिलों में गौवंश में फैल रहे लम्पी स्किन रोग पर चिंता जताते हुए केन्द्र सरकार से इन्हें बचाने के लिए आर्थिक एवं आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने का आग्रह किया है।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य के विभिन्न जिलों में गौवंश में फैल रहे लम्पी स्किन रोग पर चिंता जताते हुए केन्द्र सरकार से इन्हें बचाने के लिए आर्थिक एवं आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने और बीमारी के प्रभावी नियंत्रण में सहयोग करने का आग्रह किया हैं।

श्री गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार गौवंशीय पशुओं के प्रति सजगता एवं संवेदनशीलता बरतते हुए रोग नियंत्रण के सभी संभावित उपाय कर रही है। श्री गहलोत ने राज्य के पशुपालकों से धैर्य बनाये रखने एवं गौशाला संचालकों, जनप्रतिनिधियों और स्वयंसेवी संस्थाओं से बीमारी के नियंत्रण एवं रोकथाम में राज्य सरकार का सहयोग करने की अपील की है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पशुधन राजस्थान के किसानों की जीवन रेखा है। गौवंश पशुपालकों को अकाल की स्थिति में आर्थिक संबल प्रदान करते है। सदियों से पशुपालक पशुधन के बल पर विपरित परिस्थितियों से लड़ते आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश की बहुमूल्य पशुधन सम्पदा की महत्ता को बनाए रखने, उनके विकास एवं पशुधन उत्पादन की अभिवृद्धि के साथ-साथ पशुपालकों व किसानों को रोजगार के साधन उपलब्ध कराकर आर्थिक ²ष्टि से आत्मनिर्भर बनाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि गौवंशीय पशुओं में लम्पी स्किन रोग राजस्थान राज्य सहित देश के गुजरात, तमिलनाडु, ओडिशा, कर्नाटक, केरल, असम, छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे कई राज्यों में फैल रहा है। प्रदेश के जैसलमेर, जालौर, बाड़मेर, पाली, सिरोही, नागौर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जोधपुर, चुरू, जयपुर, सीकर, झुंझुनू, उदयपुर, अजमेर एवं बीकानेर जिलों में रोग की पुष्टि हुई है। राज्य में अब तक 1.21 लाख पशु इस बीमारी से प्रभावित हुए हैं। इनमें से 94 हजार पशुओं के उपचार के बाद 42 हजार ठीक हो गए हैं।

उन्होंने बताया कि आपातकालीन परिस्थितियों के मद्देनजर अन्य जिलों के औषधि भंडारों में उपलब्ध औषधियां प्रभावित जिलों में भेजी जा चुकी है। रोगी पशुओं का उपचार और प्रभावी मॉनिटरिंग के लिए 30 अतिरिक्त वाहनों की स्वीकृति जारी की गई है। जयपुर मुख्यालय से भेजे गए नोडल अधिकारी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर सतत मॉनिटरिंग कर रहे हैं। इस रोग की सतत निगरानी के लिए प्रभावित जिलों के साथ-साथ जयपुर मुख्यालय पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है।

श्री गहलोत ने बताया कि इस रोग की रोकथाम के लिए हर स्तर पर प्रभावी मॉनिटरिंग की जा रही है। पशुपालन मंत्री द्वारा गत 18 और 31 जुलाई को अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की समीक्षा की गई और तीन अगस्त को जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ वी.सी. के माध्यम से बीमारी के संक्रमण, रोकथाम के लिए किये जा रहे उपायों, दवा की उपलब्धता और चिकित्सा कर्मियों की स्थिति की जानकारी लेकर मिशन मोड पर कार्य करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही पशुपालन मंत्री ने गत दिनों जोधपुर जिले के फलोदी व आस-पास के क्षेत्र का दौरा कर धरातल पर वास्तविक स्थिति का भी जायजा लिया है। इस संबंध में छह अगस्त को केन्द्रीय कृषि एवं पशुपालन मंत्री के भी राज्य के दौरे पर आने की संभावना है।

इस संबंध में मुख्य सचिव उषा शर्मा द्वारा बुधवार को राज्य के 10 जिला कलक्टर एवं पशुपालन विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ विडियों कॉन्फ्रेसिंग के जरिये बैठक कर लम्पी स्किन डिजीज की स्थिति एवं रोकथाम के लिए किये जा रहे प्रयासों की पुन: समीक्षा की।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co