देश की सुरक्षा से संबंधित चुनौतियों पर जनरल मनोज पांडे का बयान
देश की सुरक्षा से संबंधित चुनौतियों पर जनरल मनोज पांडे Social Media

देश की सुरक्षा से संबंधित चुनौतियों पर जनरल मनोज पांडे का बयान

भारतीय थल सेना की कमान संभालने के बाद आज जनरल मनोज पांडे ने देश की सुरक्षा से संबंधित चुनौतियों पर बातचीत कर यह बयान दिया है।

दिल्‍ली, भारत। देश में भारतीय थल सेना की कमान अब जनरल मनोज पांडे के हाथ में है। सेनाध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद आज र‍विवार को देश की सुरक्षा से संबंधित चुनौतियों पर बातचीत की।

भारत और चीन के बीच बातचीत की प्रक्रिया जारी :

इस दौरान भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर सेनाध्यक्ष मनोज पांडे ने कहा, ‘‘भारत और चीन के बीच बातचीत की प्रक्रिया जारी है। हमें विश्वास है कि, यह आगे का रास्ता है। जैसे-जैसे हम दूसरे पक्ष से बात करना जारी रखेंगे, हम चल रहे मुद्दों का समाधान खोज लेंगे। अपनी तैयारियों के स्तर के संदर्भ में, हमने उन क्षेत्रों में अतिरिक्त उपकरणों और सैनिकों को तैनात किया है, साथ ही साथ बुनियादी ढांचा भी विकसित किया है। हमारा ध्यान बुनियादी ढांचे के विकास पर भी रहा है, ताकि रसद और संचालन आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके। अंत में, हमारा उद्देश्य वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव को कम करना है और यथास्थिति बहाल करना।’’

एलएसी पर स्थिति सामान्य है, यथास्थिति को बलपूर्वक बदलने के लिए हमारे विरोधी द्वारा एकतरफा और उत्तेजक कार्रवाई हुई। मुझे लगता है कि, इसका पर्याप्त रूप से जवाब दिया गया है। हमारे सैनिक महत्वपूर्ण और रणनीतिक स्थानों पर अपना कब्जा बनाए हुए हैं, हम बहुत स्पष्ट हैं कि यथास्थिति में किसी भी बदलाव और भारतीय क्षेत्र में किसी भी घुसपैठ की अनुमति नहीं देंगे। जहां तक ​​पाकिस्तान के साथ स्थिति का संबंध है, दोनों देशों के डीजीएमओ साल भर पहले एक समझौते पर पहुंचे, जिससे हमें नियंत्रण रेखा के दोनों ओर रहने वाले नागरिक आबादी की स्थिति में सुधार करने में मदद मिली है।

सेनाध्यक्ष मनोज पांडे

इस दौरान रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के संबंध में भी मनोज पांडे ने बयान दिया और कहा- इस संघर्ष ने यह सामने ला दिया है कि पारंपरिक युद्ध अब भी प्रासंगिक हैं और आगे भी रहेंगे। हमें पारंपरिक युद्ध लड़ने के लिए अपनी क्षमता विकास पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखना होगा। हमें अपनी स्वदेशी हथियार प्रणालियों और उपकरणों पर भरोसा करने और उस क्षमता को विकसित करने की आवश्यकता है।

  • उस हद तक, हम आत्मनिर्भरता और मेक इन इंडिया पहल के साथ सेनाओं को जोड़ रहे हैं। अंत में, रूस-यूक्रेन संघर्ष ने सूचना और साइबर युद्ध के महत्व को सामने ला दिया है।

  • हमें अपनी क्षमताओं का निर्माण करने की आवश्यकता है, क्योंकि हमें भविष्य में संघर्ष की संभावनाओं के लिए खुद को तैयार करना है।

  • हालाँकि, मुझे यह स्वीकार करना चाहिए कि, आतंकवादी बुनियादी ढांचे और आतंकवादी प्रशिक्षण शिविरों में कमी के संदर्भ में, न तो कोई सबूत है और न ही ऐसा होने के कोई संकेत हैं। इसके विपरीत, हम पाते हैं कि सक्रिय आतंकवादियों की संख्या में वृद्धि हुई है।

  • एलओसी पर घुसपैठ और हिंसा का स्तर कम हुआ है, लेकिन भीतरी इलाकों में उस प्रभाव का कोई संकेत नहीं है। महत्वपूर्ण बात यह है कि, हमारे काउंटर-इनफिल्ट्रेशन ग्रिड की सफलता के कारण, दूसरी तरफ (पाकिस्तान) से, नार्को टेरर होता है, जिसमें आप जम्मू-कश्मीर और आगे दक्षिण में सीमा पार से प्रतिबंधित वस्तुओं और हथियारों की तस्करी के मामले देखते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.