उत्तराखंड: चमोली जिले में ग्लेशियर फटने से टूटा बांध- मची भयानक तबाही
उत्तराखंड: चमोली जिले में ग्लेशियर फटने से टूटा बांध- मची भयानक तबाहीSocial Media

उत्तराखंड: चमोली जिले में ग्लेशियर फटने से टूटा बांध- मची भयानक तबाही

उत्तराखंड के चमोली जिले में आज अचानक प्राकृतिक आपदा ने कहर मचाया है। ग्लेशियर फटने के कारण हाइड्रो पॉवर प्रोजेकेट बांध टूट गया है, बाढ़ से कारण कई मजदूरों के बहने की आशंका है...

उत्तराखंड, भारत। उत्तराखंड के चमोली जिले में आज रविवार को सुबह अचानक प्राकृतिक आपदा ने कहर मचाया है। दरअसल, यहां चमोली जिले में ग्लेशियर फटने से भयानक तबाही हुई है। ग्लेशियर फटने के कारण हाइड्रो पॉवर प्रोजेकेट बांध टूट गया है, बाढ़ कारण कई मजदूरों के बहने की आशंका है।

ग्लेशियर के टूटने से ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट क्षतिग्रस्त :

उत्तराखंड चमोली पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, तपोवन इलाके में एक ग्लेशियर के टूटने से ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट क्षतिग्रस्त हो गया है। अलकनंदा नदी के किनारे रहने वाले लोगों को जल्द से जल्द सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी जाती है। उधर, ऋषिगंगा और फिर धौलीगंगा पर बने हाइड्रो प्रोजेक्ट का बांध टूटने से गंगा और उसकी सहायक नदियों में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है।

अलकनंदा नदी का बहाव सामान्य :

उत्तराखंड के CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बताया- राहत की ख़बर है कि नंदप्रयाग से आगे अलकनंदा नदी का बहाव सामान्य हो गया है। नदी का जलस्तर सामान्य से अब 1 मीटर ऊपर है, लेकिन बहाव कम होता जा रहा है। राज्य के मुख्य सचिव, आपदा सचिव, पुलिस अधिकारी एवं मेरी समस्त टीम आपदा कंट्रोल रूम में स्थिति पर लगातार नज़र रख रही है।

CM योगी ने दिए पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश :

तो वहीं, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से समाने आई जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड में बांध के टूटने से उत्पन्न हुई परिस्थितियों को देखते हुए प्रदेश में संबंधित विभागों, अधिकारियों और SDRF को हाई-अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने गंगा नदी के किनारे स्थित सभी जनपदों के ज़िलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को पूरी सतर्कता बरतने के भी निर्देश दिए हैं।

राहत व बचाव कार्य शुरू :

मिली जानकारी के मुताबिक, प्रशासन ने राहत व बचाव कार्य शुरू कर दिया है। तो वहीं, इस प्राकृतिक हादसे में कई घरों के बहने और करीब 150 लोगों के बहने की आशंका है। इसके अलावा स्थानीय प्रशासन के सुरक्षा के मद्देनजर धौलीगंगा नदी के किनारे बसे कई गांवों को खाली कराने का आदेश दे दिया है। साथ ही पानी के तेज बहाव के कारण कीर्ति नगर, देवप्रयाग, मुनि की रेती जैसे इलाकों में अलर्ट रहने को कहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co