हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को घोषित किया नोटिफाइड डिजीज
हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को घोषित किया नोटिफाइड डिजीजSyed Dabeer Hussain - RE

हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को घोषित किया नोटिफाइड डिजीज

हरियाणा। देश से अब तकब्लैक फंगस के 500 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसी बीच हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को नोटिफाइड डिजीज यानी गंभीर रोग घोषित किया।

हरियाणा, भारत। आज आंकड़ा बेकाबू होता जा रहा है। देश में हर दिन हजारों लोगों की जाने जा रही हैं। ऐसे में देश में अब एक और नई ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) नाम की बला जन्म ले चुकी है। अब तक कई राज्यों से इसके कुछ एक मामलें सामने आचुके है। इस प्रकार पूरे देश से अब तक इस प्रकार के 500 से ज्यादा मामले सामने आचुके हैं। इसी बीच हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को नोटिफाइड डिजीज यानी गंभीर रोग घोषित किया।

ब्लैक फंगस को घोषित किया गंभीर रोग :

दरअसल, देश में धीरे-धीरे अपने पैर पसारते हुए ब्लैक फंगस ने कई राज्यों में एंट्री ले ली है। इसी बीच हरियाणा की खट्टर सरकार ने ब्लैक फंगस को एक गंभीर रोग का दर्जा दे दिया है। इस घोषणा के बाद हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने ब्लैक फंगस के हर एक मामले की जानकारी मुख्यमंत्री कार्यलय (CMO) को देने के भी आदेश जारी किए है। इस मामले में हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने भी ट्वीट कर जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि, राज्य में डॉक्टरों को ब्लैक फंगस का केस सामने आने पर जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को रिपोर्ट करना आवश्यक है। इसके अलावा उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि,

"हरियाणा में ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित किया गया है। अब, किसी भी ब्लैक फंगस मामले का पता चलने पर डॉक्टर जिले के सीएमओ को रिपोर्ट करेंगे। पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट रोहतक के वरिष्ठ चिकित्सक कोरोना से निपटने वाले प्रदेश के सभी डॉक्टरों के साथ इसके इलाज को लेकर वीडियो कांफ्रेंस करेंगे"

अनिल विज, हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री

क्या होता है अधिसूचित करने से ?

जानकारी के लिए बता दें, यदि किसी भी बीमारी को अधिसूचित या नोटिफाइड डिजीज घोषित कर दिया जाता है। तो, उस बीमारी से जुड़ी जानकारी और सूचनाओं को एकत्रित करने में आसानी हो जाती है और अधिकारियों को उस बीमारी से ग्रसित मरीजों की निगरानी करने और प्रारंभिक चेतावनियां सेट करने में मदद मिल जाती है। इस मामले में जानकारी देते हुए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने बताया कि,

'ब्लैक फंगस या म्यूकोर्मिकोसिस मुख्य रूप से उन लोगों को होता है जो अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ रहे होते हैं। यह मरीज की प्रतिरक्षा प्रणाली कम कर देता है। मौजूदा वक्त में भारत में COVID-19 महामारी ने ब्लैक फंगस को एक खतरनाक बीमारी का रूप दे दिया है। यहां तक ​​कि इसकी चपेट में आकर कुछ लोगों की जान भी चली गई है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद

गौरतलब है कि, हरियाणा में पिछले कुछ दिनों में ब्लैक फंगस के 40 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। जबकि ओडिशा सरकार इस बीमारी को मॉनिटर कर रही है। साथ ही उसके लिए 7 सदस्यों की टीम भी गठित की है। इसके अलावा मध्यप्रदेश में भी इस बीमारी को लेकर उचित कदम उठाए जा रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co