ममता बनर्जी बर्थडे
ममता बनर्जी बर्थडेSocial Media

Mamata Banerjee Birthday : जानिए दूध बेचकर गुजारा करने वाली ममता बनर्जी कैसे बनीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने साल 2011, साल 2016 और साल 2021 में पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल की और लगातार तीन बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं।

राज एक्सप्रेस। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी आज अपना 67वां जन्मदिन मना रही हैं। 5 जनवरी 1955 को कोलकाता के एक बेहद सामान्य परिवार में जन्मी ममता बनर्जी लगातार तीन बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। कांग्रेस से अपनी राजनीति की शुरूआत करने वाली ममता बनर्जी ने बाद में खुद की पार्टी बनाई और फिर पश्चिम बंगाल में 34 साल से काबिज वामपंथी सरकार को उखाड़ फेंका। तो चलिए आज ममता बनर्जी के जन्मदिन पर डालते हैं उनके राजनीतिक सफर पर एक नजर।

कांग्रेस से की राजनीति की शुरुआत :

ममता बनर्जी का जन्म एक सामान्य परिवार में हुआ था। छोटी उम्र में पिता का साया उठ जाने के बाद ममता बनर्जी को जीवन यापन के लिए दूध बेचने का काम करना पड़ा था। ममता बनर्जी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 15 साल की उम्र में कांग्रेस पार्टी में शामिल होकर की थी। साल 1984 के लोकसभा चुनाव में वे पहली बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंची थीं। इसके बाद साल 1991 में वे दोबारा चुनकर लोकसभा पहुँचीं और केंद्र सरकार में राज्यमंत्री बनीं।

कांग्रेस छोड़ टीएमसी का किया गठन :

साल 1993 में ममता बनर्जी से मंत्री पद वापस ले लिया गया। इसके बाद ममता बनर्जी और कांग्रेस के बीच कई मुद्दों को लेकर मतभेद रहे। आखिरकार ममता बनर्जी ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया और फिर 1 जनवरी 1998 को अपनी पार्टी आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस का गठन किया।

केंद्रीय रेल मंत्री बनीं :

अपनी पार्टी बनाने के बाद ममता बनर्जी एनडीए की गठबंधन सरकार में शामिल हो गईं और खुद रेल मंत्री बन गईं। हालांकि साल 2001 में वह सरकार से अलग हो गईं। इसके बाद साल 2004 से पहले वह फिर एनडीए सरकार में आई और खदान एवं कोयला मंत्री रहीं। हालांकि साल 2004 के लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा, जबकि साल 2009 के लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी ने बंगाल में 42 में से 19 सीटें जीत ली।

वामपंथी सरकार को उखाड़ा :

साल 2009 के लोकसभा चुनाव के बाद ममता बनर्जी के सामने सबसे बड़ी चुनौती साल 2011 में होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की थी। वहां साल 1977 से वामपंथी सरकार थी। इसी बीच सिंगूर और नंदीग्राम में जबरन भूमि अधिग्रहण के फैसले के विरोध में ममता बनर्जी के विरोध प्रदर्शन से उनकी लोकप्रियता बढ़ती गई और आखिरकार साल 2011 के विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी ने वामपंथी सरकार हरा दिया। इसी के साथ ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं।

तीन बार रह चुकी हैं मुख्यमंत्री :

साल 2011 में मिली जीत के बाद ममता बनर्जी ने साल 2016 और साल 2021 में पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में भी बड़ी जीत हासिल की और लगातार तीन बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनीं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co