केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक।
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक।|Social Media
भारत

HRD मंत्री निशंक ने बताया लॉकडाउन बाद कैसे लगेंगे स्कूल?

“केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शिक्षकों से लाइव बातचीत के दौरान लॉकडाउन उपरांत स्कूल संचालन के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी।”

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स

  • शिक्षकों से मुखातिब हुए मंत्री

  • लाइव चर्चा में बताया अगला प्लान

  • HRD मिनिस्टर ने दिये सवालों के जवाब

  • राज एक्सप्रेस ने प्रमुखता से उठाया था मुद्दा

राज एक्सप्रेस। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शिक्षकों से लाइव बातचीत के दौरान लॉकडाउन उपरांत स्कूल संचालन के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी।

उन्होंने कहा जब शिक्षण संस्थान कोरोना वायरस महामारी के बीच फिर से खुलें तो संशोधित बैठक व्यवस्था, टाइमिंग में बदलाव और कक्षाओँ का अलग-अलग वर्गों में विभाजन संस्थानों की प्रमुख विशेषताओं में से एक विकल्प हो सकता है। न केवल कक्षाओं बल्कि स्कूल बस सेवा जैसी परिवहन सुविधाओं के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने की आवश्यकता है।

राज एक्सप्रेस की पहल -

कोविड-19 जनित लॉकडाउन से प्रभावित शिक्षण सत्र के सवाल को राज एक्सप्रेस ने प्रमुखता से उठाया था। साथ ही मुद्दे से जुड़ी समस्याओं के बारे में सरकारी तंत्र का ध्यान आकृष्ट कराने का प्रयास किया था। हमने प्रमुख तौर पर शिक्षण संस्थानों से उन बिंदुओं पर सवाल किये थे जो लॉकडाउन के बाद परेशानी का सबब हो सकते हैं। आप इस लिंक पर विस्तार से वस्तु स्थिति को जान सकते हैं-

प्रणाली पर खोज जारी -

केंद्रीय मंत्री निशंक ने कहा ''यह बहुत संभव है कि कक्षाएं केवल 30 प्रतिशत स्टूडेंट्स को ही अक्षम कर पाती हैं जो वे कोरोना वायरस से पहले इस्तेमाल करते थे। इन तौर-तरीकों पर राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) में काम किया जा रहा है।”

उन्होंने कहा कि नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) स्कूल खोलने की एक नई प्रणाली की खोज कर रहा है, जबकि यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (UGC) आगामी सत्र के लिए उच्च शिक्षा संस्थानों संबंधी तौर-तरीकों पर काम कर रहा है जिसमें कॉलेज और विश्वविद्यालय भी शामिल हैं।

UGC का कहना -

वहीं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने कहा है कि नामांकित स्टूडेंट्स के लिए कक्षाएं अगस्त में शुरू होंगी जबकि नए बैच की कक्षाएं सितंबर से शुरू हो पाएंगी। हालांकि इस बात पर कोई स्पष्टता नहीं है कि स्कूल कब खुलेंगे। मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि; “हमारे स्टूडेंट्स का स्वास्थ्य हमारे लिए प्रमुख विषय है। कोरोना वायरस के कारण स्थिति सामान्य हो जाने पर ही स्कूल खुलेंगे।”

सवाल और जवाब -

तालाबंदी के बाद स्कूलों को फिर से खोलने से संबंधित सवाल के जवाब में मंत्री ने बताया कि; “स्कूल प्रशासन और शिक्षक वर्ग विद्यालय स्तर पर सभी हितधारकों की विशिष्ट भूमिकाओं और जिम्मेदारियों को परिभाषित करने, स्कूलों को फिर से खोलने से पहले और बाद में स्वास्थ्य और स्वच्छता और अन्य सुरक्षा प्रोटोकॉल या मानक संचालन प्रक्रियाओँ (SOPs) को परिभाषित और स्थापित करने, स्कूल कैलेंडर और वार्षिक पाठ्यक्रम योजनाओं को पुनर्परिभाषित करने या पढ़ने, लॉकडाउन के दौरान घर से स्कूली शिक्षा से औपचारिक स्कूली शिक्षा के लिए अनुकूल परिवर्तन काल सुनिश्चित करने और स्टूडेंट्स की भावनात्मक भलाई सुनिश्चित करने जैसे विभिन्न कार्यों को अंजाम देंगे।” आधिकारिक सरकारी विज्ञप्ति में इस बारे में उल्लेख है।

चेक लिस्ट और आरोग्य सेतु -

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि; स्कूल यह सुनिश्चित करने के लिए चेक लिस्ट तैयार करेंगे कि वे किसी भी चीज़ से न छूटें। सीबीएसई इस बारे में जल्द ही चेक लिस्ट बांटने वाली है। उन्होंने शिक्षकों और विद्यार्थियों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने और कोरोना वायरस से संबंधित नवीनतम जानकारी के बारे में अपडेट रहने के लिए भी कहा।

शिक्षकों से अपील -

गौरतलब है कोरोना वायरस जनित लॉकडाउन के कारण मार्च मध्य से स्कूल और कॉलेज बंद हो गए हैं। शिक्षकों से स्टूडेंट्स को ऑनलाइन पढ़ाने के लिए कहा गया है। मंत्री निशंक ने शिक्षकों से स्वयं (SWAYAM), स्वयंप्रभा (SWAYAM Prabha), दीक्षा (Diksha) आदि सहित विभिन्न विधाओं के माध्यम से ऑनलाइन शिक्षण जारी रखने का आग्रह किया।

उन्होंने शिक्षकों से दीक्षा पोर्टल के लिए डिजिटली सीखने के अभिनव तरीकों में योगदान करने का भी आग्रह किया। उन्होंने बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय को अब तक 9000 से अधिक योगदान प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा, "हमें इस स्थिति को एक अवसर के रूप में लेना ​​चाहिए और डिजिटल बुनियादी ढांचे को मजबूत करना चाहिए।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co