अगर विभाजन ना होता, तो अब तक कहाँ होता भारत
अगर विभाजन ना होता, तो अब तक कहाँ होता भारतSyed Dabeer Hussain - RE

अगर विभाजन ना होता, तो अब तक कहाँ होता भारत? जानिए क्या कहते हैं विदेश मंत्री

भारत ने अपनी जवाबी कार्रवाई से सबसे सामने यह बात साफ कर दी है कि भारत किसी के दबाव में आने वाला नहीं है। उरी और बालाकोट जैसे कदम इसका सबसे बड़ा संदेश हैं।

राज एक्सप्रेस। तमिलनाडु में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर ने विश्व में भारत के स्थान को लेकर कई बातें की। उन्होंने कहा कि चाहे पाकिस्तान का पनपता आतंकवाद हो या फिर चीन का सीमा से जुड़ा विवाद ही क्यों ना हो? भारत ने अपनी जवाबी कार्रवाई से सबसे सामने यह बात साफ कर दी है कि भारत किसी के दबाव में आने वाला नहीं है। उरी और बालाकोट जैसे कदम इसका सबसे बड़ा संदेश हैं। जयशंकर ने इसके साथ ही भारत की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए किए जा रहे प्रयासों की भी चर्चा की। उन्होंने यह भी बताया कि अगर विभाजन ना हुआ होता तो भारत कहाँ होता। चलिए जानते हैं इस बारे में।

विभाजन नहीं होता तो आज कहाँ होता भारत?

साल 1947 के दौरान हुआ विभावन को लेकर बात करते हुए एस जयशंकर ने कहा कि, यदि उस दौरान विभाजन नहीं हुआ होता। तो आज हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा देश बन गया होगा। विभाजन के कारण हमसे कई क्षेत्र भी अलग जो गए, और साथ ही देश का एक कदम भी पीछे हो गया।

विश्व के लिए क्यों महत्वपूर्ण भारत?

जयशंकर का कहना है कि भारत में बड़ा भूखंड, अधिक आबादी, लंबा इतिहास, विभिन्न संस्कृति है। जो विश्व के सामने भारत को एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाते हैं। इसके साथ भारत अब G-20 देशों की अध्यक्षता कर रहा है। इस दौरान पूरे देश में कई स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। लोग भी इस समिट को लेकर अधिक जागरुक होंगे। यह भारत के लिए एक सुनहरा मौका होगा, जब हम दुनिया को हमारे करीब लेकर आएँगे।

क्या कहते हैं पीएम?

जयशंकर के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इस बारे में कहना है कि, केवल दिल्ली में बैठे लोगों के द्वारा ही विदेश नीति पर चर्चा हो यह जरुरी नहीं है। आज के इस दौर में हर उस व्यक्ति को हिस्सा लेना चाहिए जो बाहरी दुनिया में दिलचस्पी रखता है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co