लद्दाख सीमा विवाद: दोनों पक्ष तनाव कम करने पर हुए राजी
लद्दाख सीमा विवाद: दोनों पक्ष तनाव कम करने पर हुए राजी|Priyanka Sahu -RE
भारत

लद्दाख सीमा विवाद: दोनों पक्ष तनाव कम करने पर हुए राजी

लद्दाख सीमा विवाद: मोल्डो में भारत-चीन की 11 घंटे की बातचीत के बाद दोनों पक्षों में ये बड़ा फैसला हुआ, वे पूर्वी लद्दाख के तनाव वाले इलाके से अपने सैनिकों को हटाने पर सहमत हुए हैं।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

लद्दाख सीमा विवाद: भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में जारी खासे तनाव को सामान्य करने के लिए बीते दिन यानी 22 जून को दोनों पक्षों के सैन्य कमांडर स्तर की बातचीत हुई, इस दौरान कूटनीति काम आई, चीन के तेवर नरम पड़े और दोनों देश सीमा पर तनाव कम करने के लिए राजी हुए।

दोनों पक्षों में सैनिक हटाने पर सहमति :

सूत्रों के हवाले से खबर सामने आ रही है कि, भारत-चीन दोनों पक्षों में पूर्वी लद्दाख के तनाव वाले क्षेत्रों में तनाव कम करने की सहमति बनने के साथ ही पूर्वी लद्दाख में दोनों देश अपने-अपने सैनिकों पर भी राजी हुए। अब दोनों देशों की सेनाएं पीछे हटेंगी।

वहीं, भारतीय सेना के मुताबिक, भारत और चीन के बीच सोमवार को हुई कॉर्प्स कमांडर स्तर की वार्ता सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक वातावरण में हुई। दोनों पक्ष आपसी सहमति से तनाव वाले इलाकों से पीछे हटने को तैयार हो गए हैं। बैठक में पूर्वी लद्दाख में सभी संघर्ष क्षेत्रों से सेनाओं के पीछे हटने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई और दोनों ही पक्ष इसपर अमल करेंगे।

11 घंटे तक सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता :

बताया गया है कि, बीते दिन यानी सोमवार को मोल्डो में दोनों देशों के सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता करीब 11 घंटे तक हुई थी। इसके अलावा भारत की ओर से ये कहा गया है कि, गलवान में हिंसा चीन की सुनियोजित साजिश है एवं भारत लगातार आक्रामक रवैया कायम रखे हुए है।

वहीं, लोकल कमांडर को अब हालात के मुताबिक हथियारों के इस्तेमाल की इजाजत दे चुकी है। चीन के लिए संदेश साफ है, अब खुली छूट है। चीन के साथ LAC पर तनातनी के बीच अब सेना की तोप सरहदी इलाकों में पहुंचाई जा रही हैं। चीन को संदेश बहुत साफ है कि, उसके धोखेबाज चरित्र पर अब यकीन नहीं किया जाएगा।

गौरतलब है कि, 15 जून की रात को गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे, जबकि चीन के 40 जवान मारे गए थे। इस घटना के बाद से ही दोनों देशों में तनाव चरम पर था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co