टू प्लस टू वार्ता में भारत-अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग को लेकर बड़ा समझौता

टू प्लस टू वार्ता में भारत-अमेरिका के बीच आज BECA समझौते पर हस्ताक्षर हुआ, सैन्य सहयोग को लेकर हुए इस एग्रीमेंट के बाद भारत के विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री ने कहा...
टू प्लस टू वार्ता में भारत-अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग को लेकर बड़ा समझौता
टू प्लस टू वार्ता में भारत-अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग को लेकर बड़ा समझौताTwitter

टू प्लस टू वार्ता: पूर्वी लद्दाख मे चीन से सीमा विवाद के जारी गतिरोध के बीच आज 27 अक्‍टूबर को राजधानी दिल्ली के हैदराबाद हाउस में भारत और अमेरिका के बीच टू प्लस टू (2+2 Dialogue) मीटिंग हो रही है।

भारत-अमेरिका में BECA समझौता :

भारत और अमेरिका के बीच टू प्लस टू (2+2 Dialogue) मीटिंग में दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को लेकर एक बड़ा करार हुआ है यानी बेसिक एक्सचेंज एंड कॉपरेशन एग्रीमेंट (BECA) समझौते पर हस्ताक्षर हुआ। इस एग्रीमेंट पर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के साथ भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने हस्ताक्षर किए। इस समझौते से दोनों देशों के बीच सूचनाओं को साझा करने में और भी आसानी होगी।

टू प्लस टू वार्ता के दौरान बोले पोम्पियो :

टू प्लस टू वार्ता के दौरान अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि, ''आज दो महान लोकतंत्रों के और करीब आने का शानदार अवसर है। क्षेत्र में शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने और सुरक्षा व स्वतंत्रता के लिए खतरा बन रही चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का सामना करने जैसे चर्चा लायक आज हमारे पास बहुत से मुद्दे हैं।''

हमने पिछले कुछ वर्षों में विशेष रूप से अपनी रक्षा और सुरक्षा साझेदारी को मजबूत किया है, इस दौरान हमने क्षेत्रीय सुरक्षा और सूचनाएं साझा करने की प्रक्रिया को उन्नत किया है। हमारे बीच का सहयोग वर्तमान चुनौतियों और एक स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के सिद्धांतों को पूरा करता है।

मार्क एस्पर, अमेरिका के रक्षा मंत्री

BECA एग्रीमेंटपर से राजनाथ प्रसन्न :

टू प्लस टू वार्ता के दौरान भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, ''हमें खुशी है कि हमने BECA पूरा कर लिया है, इससे सूचनाएं साझा करने के नए रास्ते खुलेंगे। हम अमेरिका के साथ आगे के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक हैं।''

भारतीय विदेश मंत्री का कहना :

वहीं, भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि, 'पिछले दो दशकों में हमारे द्विपक्षीय संबंध लगातार बढ़े हैं। ऐसे समय में जब नियम या कानून-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाए रखना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co