अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : योग और योगा में क्या अंतर हैं? जानिए विस्तार से
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवसSyed Dabeer Hussain - RE

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : योग और योगा में क्या अंतर हैं? जानिए विस्तार से

साल 2015 से समूचे विश्व में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी। इस दिन दुनियाभर के लोग साथ मिलकर योग करते हैं और जागरूकता फैलाते हैं।

राज एक्सप्रेस। हर साल 21 जून को विश्वभर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) मनाया जाता है। योग करने से मन को शांति मिलती है और शरीर भी स्वस्थ रहता है। साथ ही नियमित योग करना मनुष्य के जीवन को भी लंबा बनाता है। मानव जीवन में योग के इसी महत्व को देखते हुए विश्व में साल 2015 से समूचे विश्व में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी। इस दिन दुनियाभर के लोग साथ मिलकर योग करते हैं और जागरूकता फैलाते हैं। लेकिन योग को लेकर कई लोगों के मन में कई आशंका है और वे योग और योगा को एक ही मानते हैं। लेकिन इन दोनों में बहुत अंतर है। चलिए आज हम आपको योग और योगा में अंतर बताते हैं।

योग :

योग जीवन जीने की एक तरीका है। जिसके जरिए आत्मा को परमात्मा से मिलाया जाता है। योग केवल एक होता है लेकिन इसके कई प्रकार होते हैं। जैसे सांख्य योग, ज्ञान योग, भक्ति योग,लय योग हठ योग, राजयोग, सहज योग, क्रिया योग, ध्यान योग, समाधि योग, पतंजलि योग, हिरण्यगर्भ योग, मृत्युंजय योग, नाद बिंदु योग आदि। जबकि योग के साथ अगर कोई नाम या विशेषण जुड़ जाता है तो वह संपूर्ण योग नहीं होता, बल्कि योग का एक छोटा सा अंश है। योग को अष्टांग योग के नाम से भी जाना जाता है जोकि इस प्रकार हैं। यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा और समाधि। लेकिन वर्तमान में लोग केवल आसन, प्राणायाम और मेडिटेशन के बारे में ही जानते हैं, साथ ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता है कि ध्यान या मेडिटेशन और प्राणायाम भी योग का ही हिस्सा हैं।

योगा :

योगा, शरीर को फिट रखने की एक क्रिया है। जिसके तहत शरीर को निरोगी रखने के लिए नियमित रूप से किया जाता है। योगा से शरीर स्वस्थ रहता है और मन को शांति मिलती है। योगा के कई आसन हैं जिन्हें नियमित तौर पर करने से आप उत्तम मन और निरोगी काया पा सकते है। इनमें वीरासन , ताड़ासन , संकटासन , गरुनासन, श्वासन , भुजंगासन , मकरासन , शलभासन, गोमुखासन, हलासन, काकासन, कपोतासन आदि शामिल हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co