कोरोना के बीच ISRO का कमाल, PSLV-C49 रॉकेट से 10 सैटेलाइट किए लॉन्च

श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्‍पेस सेंटर से आज ISRO ने PSLV-C49 के जरिए 9 अंतरराष्ट्रीय उपग्रह और एक भारत का EOS-01 समेत 10 सैटेलाइट लॉन्च कर एक बार फिर इतिहास रचा है।
कोरोना के बीच ISRO का कमाल, PSLV-C49 रॉकेट से 10 सैटेलाइट किए लॉन्च
कोरोना के बीच ISRO का कमाल, PSLV-C49 रॉकेट से 10 सैटेलाइट किए लॉन्चSocial Media

राज एक्‍सप्रेस। कोरोना महामारी के चलते कई कार्य रूके हुए थे, जिनमें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के कई प्रोजेक्ट्स भी थे, जो रुके पड़े थे, लेकिन अब दोबारा शुरू किया जा रहा है। इसी कड़ी में ISRO द्वारा आज 7 नवंबर को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट (EOS-01) को लॉन्च कर दिया है।

ISRO ने एक बार फिर रचा इतिहास :

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की यह इस साल की पहली लॉन्चिंग है। इसरो ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्‍पेस सेंटर से दोपहर करीब 3 बजकर 2 मिनट पर PSLV-C49 रॉकेट से 10 सैटेलाइट को सफलतापूर्वक लॉन्च कर एक बार फिर इतिहास रचा है। ISRO द्वारा लॉन्च किए गए 10 सैटेलाइट में से 9 अंतरराष्ट्रीय उपग्रह हैं, जबकि एक भारत का अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट (EOS-01) है।

इसरो ने बताया कि, ''सैटेलाइट को पोलर सैटलाइट लॉन्च व्हिकल (PSLV) C49 रॉकेट से अंतरिक्ष में पहुंचाया जाएगा। PSLV के जरिए इस बार अर्थ ऑब्जर्बर के अलावा 9 विदेशी सैटलाइट भी भेजे जा रहे हैं।''

EOS-01 सैटेलाइट की खासियत :

अगर भारत के EOS-01 की बात करें, तो यह सैटेलाइट एक अर्थ ऑब्जरवेशन रिसेट सैटेलाइट है। इस एडवांस वर्जन में सिंथेटिक अपर्चर रडार (SAR) है, जो किसी भी समय और मौसम में पृथ्वी पर नजर रखने की क्षमता रखता है।

इस सैटेलाइट की खासियत यह है कि, इस सैटेलाइट से भारतीय सेना को अपनी सीमाओं पर नज़र रखने में काफी मदद मिलेगी, बादलों के बीच भी पृथ्वी को देखा जा सकता है और स्पष्ट तस्वीरें ली जा सकती हैं। इस सैटेलाइट के जरिए हर समय देश की सीमाओं की निगरानी की जा सकेगी। इसके अलावा सैटेलाइट का इस्तेमाल खेती, फॉरेस्ट्री और डिजास्टर मैनेजमेंट के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

बता दें, भारत का पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल अपने 51वें अभियान में अन्य देशों के नौ सैटेलाइटों के साथ भारत के पृथ्वी अवलोकन सैटेलाइट EOS-01 को लेकर लॉन्च हुआ। PSLV-C49 से जिन सैटेलाइटों को लॉन्च किया गया, उनमें भारत का एक, लिथुआनिया का एक, लक्जमबर्ग के चार और अमेरिका के चार सैटेलाइट हैं। इस सैटेलाइट की लॉन्चिंग के लिए श्री हरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर में शुक्रवार दोपहर को उल्टी गिनती शुरू हई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co