गुलाम नबी आजाद के बयान पर विवाद खड़ा
गुलाम नबी आजाद के बयान पर विवाद खड़ा Raj Express

गुलाम नबी आजाद के बयान पर विवाद खड़ा- महबूबा मुफ्ती ने साधा निशाना

डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी (DPAP) के प्रमुख और जम्मू-कश्मीर के पूर्व CM गुलाम नबी आजाद ने डोडा जिले में एक सभा को संबोधित करते वक्‍त भारत में धर्मों के इतिहास के बारे में टिप्पणी की।

हाइलाइट्स :

  • गुलाम नबी आजाद ने भारत में धर्मों के इतिहास के बारे में टिप्पणी की

  • गुलाम नबी आजाद के बयान पर महबूबा मुफ्ती ने निशाना साधा

  • पीछे जाने की सलाह दूंग, हो सकता है वहां पूर्वजों में कुछ बंदर मिल जाएं- मुफ्ती

जम्मू-कश्मीर, भारत। भारतीय मुसलमान को लेकर डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी (DPAP) के प्रमुख और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद का एक बयान सामने आया, जिसपर विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, गुलाम नबी आजाद ने डोडा जिले में एक सभा को संबोधित करते वक्‍त भारत में धर्मों के इतिहास के बारे में टिप्पणी की। ऐसे में पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने उन पर निशाना साधा है।

डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी (DPAP) के प्रमुख और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि, सभी भारतीय मुसलमान हिंदू धर्म से कन्वर्ट हुए हैं। कुछ बीजेपी नेता कर रहे हैं कि, कुछ मुसलमान बाहर से आए हैं और कुछ नहीं। कोई भी बाहर या अंदर से नहीं आया है। इस्लाम सिर्फ 1,500 साल पहले वजूद में आया था। हिंदू धर्म बहुत पुराना है, उनमें से लगभग 10-20 मुसलमान हैं। कुछ बाहर से आए होंगे लेकिन कुछ मुगल सेना में थे।

भारत में अन्य सभी मुसलमानों ने हिंदू धर्म छोड़ दिया. इसका एक उदाहरण कश्मीर में पाया जा सकता है। 600 साल पहले कश्मीर में मुसलमान कौन थे? सभी कश्मीरी पंडित थे. उन्होंने इस्लाम अपना लिया। सभी इसी धर्म में पैदा हुए हैं। उन सभी ने भारत को अपना घर बनाया है। यह हमारा घर है। हम बाहर से नहीं आए हैं, हम इसी मिट्टी पर पैदा हुए हैं और इसी में फना हो जाएंगे।

गुलाम नबी आजाद

गुलाम नबी आजाद के इसी बयान पर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने निशाना साधा और कहा, "मुझे नहीं पता कि वह कितना पीछे चले गए और उन्हें अपने पूर्वजों के बारे में क्या ज्ञान है। मैं उसे बहुत पीछे जाने की सलाह दूंगी और हो सकता है कि उसे वहां पूर्वजों में कुछ बंदर मिल जाएं।"

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co