जयपुर प्रताप विश्वविद्यालय दीक्षांत समारोह में शिक्षा पर नड्डा की अहम बातें
जयपुर के प्रताप विश्वविद्यालय 4वां दीक्षांत समारोह में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने कहा-शिक्षा से मेरा गहरा नाता है और शिक्षा के मंदिर के माध्यम से जो देश सेवा हो रही है, वो प्रेरणा देती है।
जयपुर प्रताप विश्वविद्यालय दीक्षांत समारोह में शिक्षा पर नड्डा की अहम बातें
जयपुर प्रताप विश्वविद्यालय दीक्षांत समारोह में शिक्षा पर नड्डा की अहम बातेंTwitter

राजस्‍थान, भारत। राजस्‍थान में जयपुर के प्रताप विश्वविद्यालय 4वें दीक्षांत समारोह को आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने शिक्षा के बारे में कई अहम बातें कहीं।

दीक्षांत समारोह में जेपी नड्डा का संबोधन :

जेपी नड्डा ने इस दीक्षांत समारोह में अपने संबोधन में कहा- आज जो विद्यार्थी शिक्षा प्राप्त करके नए जीवन में प्रवेश कर रहे हैं, शिक्षा की थ्योरी को समझकर जीवन के प्रेक्टिकल में इसे क्रियांवयन करने जा रहे हैं। मैं इसके लिए सभी विद्यार्थियों को बधाई देता हूं। देश की सेवा में आप खुद को समर्पित करेंगे, ऐसा मेरा विश्वास है। शिक्षा से मेरा गहरा नाता है और शिक्षा के मंदिर के माध्यम से जो देश सेवा हो रही है वो मेरे लिए हमेशा प्रेरणा का कारण बनती है, प्रेरणा देती है।

हम जब नौजवान होते हैं तो हमें खुद पर बहुत भरोसा होता है। इसलिए तब ज्यादातर हमारे मुंह से ‘मैं’, शब्द निकलता है। ‘मैं’ तभी कामयाब होता है जब वो ‘हम’ को पहचान लेता है। आपकी डिग्री को प्राप्त करने में आपके साथ ही आपके माता-पिता, गुरुजनों का भी योगदान है

जेपी नड्डा, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष

शिक्षा को लेकर जेपी नड्डा ने कहीं ये अहम बातें :

  • आपने जो शिक्षा प्राप्त की है वो समाज के लिए है। समाज के लोगों की खुशी के लिए आप क्या कर सकते हैं, आपको ये सोचने की जरूरत है।

  • रटने-रटाने का जमाना अब चला गया, अब कंसेप्ट और एप्लीकेशन का जमाना है। तभी आपकी शिक्षा समाज के लिए उपयोगी होगी। एप्लीकेशन के लिए एप्टीट्यूट होना चाहिए, और एप्टीट्यूट के लिए मन में विचार होना चाहिए।

  • भारत हमेशा विश्व गुरु रहा है। भारत ने हमेशा विश्व को शिक्षा दी है। नालंदा और तक्षशिला इसके उदाहरण हैं। कई देशों के विद्यार्थी यहां आकर शिक्षा प्राप्त करते रहे हैं।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जो नई शिक्षा नीति बनाई है, वो भारत के मूल से जुड़ी है। सबके विचारों का समावेश करने के बाद ये शिक्षा नीति बनी है।

जेपी नड्डा ने कहा- पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने कहा था कि भारत की रीति नीति से जुड़ी, भारत को पहचानने वाली और उसके दर्शन से जुड़ी शिक्षा नीति बनेगी तो ही उसका लाभ मिलेगा। शिक्षा एक तरह से निवेश है जो आने वाले समय में समाज में सकारात्मक परिवर्तन ला सकती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co