Raj Express
www.rajexpress.co
 लाल बहादुर शास्त्री ,महात्मा गांधी
लाल बहादुर शास्त्री ,महात्मा गांधी |Social Media
भारत

भारत के दूसरे पीएम 'शास्त्री जी ' की जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

"जय जवान जय किसान" का नारा देने वाले भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 116वीं जयंती पर उनके जीवन और प्रधानमंत्री रहते हुए उनके द्वारा किये गए कार्यो पर आधारित ये लेख।

Rishabh Jat

2 अक्टूबर का दिन भारत देश के लिए काफी ऐतिहासिक और गौरव का दिन है। आज के दिन देश की दो महान विभूतियों की जयंती है। आज देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती है। वहीं आज के ही दिन जय जवान-जय किसान का नारा देने वाले देश के दूसरे प्रधानमंत्री 'लाल बहादुर शास्त्री' की 116वीं जयंती है।

किसान परिवार में जन्मे हमेशा सादगी भरा जीवन जीने वाले लाल बहादुर शास्त्री एक कुशल और गांधीवादी विचार वाले नेता थे।शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय में हुआ था। आजादी की लड़ाई में लाल बहादुर शास्त्री 9 साल तक जेल में रहे। 'असहयोग आंदोलन' के लिए पहली बार वह 17 साल की उम्र में जेल गए थे लेकिन बालिग न होने की वजह से उनको छोड़ दिया गया, इसके बाद वह 'सविनय अवज्ञा आंदोलन' के लिए 1930 में ढाई साल के लिए जेल गए,1940 और फिर 1941 से लेकर 1946 के बीच भी वह जेल में रहे।

शास्त्री जी ने देश की आम जनता के लिए बहुत से कार्य किये आज उनकी जयंती पर जानते हैं, उनके द्वारा किये गए कुछ महत्वपूर्ण कार्य-

रेलवे की जनरल बोगी में लगे पंखे शास्त्री जी की ही देन हैं। भारतीय रेलवे में हम सब सफर करते हैं। कई बार जनरल बोगिओ में भी यात्रा हो ही जाती है और हमें लगता है इन बोगिओ में तो सुविधाओं का आभाव है पर एक समय था जब इन डिब्बों में पंखे भी नहीं हुआ करते थे किसान परिवार से आये शास्त्री जी को समझ आया कि देश की अधिकतर आबादी तो इन्ही डब्बों में सफर करती है जिसमे पंखे तक नहीं है। देश के दूसरे प्रधानमंत्री ने आदेश दिया और रेलवे के जनरल डिब्बो में भी पंखे लगाये गये थे और आज भी देश की आबादी इस सुविधा का लाभ पा रही है।

आजादी के बाद शास्त्री जी 1951 में नई दिल्ली आ गए एवं केंद्रीय मंत्रिमंडल के कई विभागों का प्रभार संभाला। वह रेल मंत्री, परिवहन एवं संचार मंत्री, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, गृह मंत्री एवं नेहरू जी की बीमारी के दौरान बिना विभाग के मंत्री रहे।

लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पीएम मोदी ने भी दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट कर लाल बहादुर शास्त्री को याद किया और श्रद्धासुमन अर्पित करे। पीएम मोदी ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, ‘जय जवान जय किसान’ के उद्घोष से देश में नव-ऊर्जा का संचार करने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी को उनकी जयंती पर शत-शत नमन।

भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान

1964 में जब लाल बहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री बने , उनके शासनकाल में 1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ। उस समय देश में भयंकर सूखा पड़ा और खाने की चीजों को निर्यात किया जाने लगा। संकट को टालने के लिए उन्होंने देशवासियों से एक दिन का उपवास रखने की अपील की, साथ ही कृषि उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए उन्होंने 'जय जवान-जय किसान' का नारा दिया।

 लाल बहादुर शास्त्री के साथ फिल्म सेलिब्रिटीज
लाल बहादुर शास्त्री के साथ फिल्म सेलिब्रिटीज
Social Media

तस्वीर में देखा जा सकता है कि लाल बहादुर शास्त्री के साथ फिल्म सेलिब्रिटीज खड़े हैं। शास्त्री जी के ठीक पीछे बॉलीवुड के भारत कुमार के नाम से मशहूर एक्टर मनोज कुमार नजर आ रहे हैं। उनके लेफ्ट में दूसरे नंबर पर बॉलीवुड की मां के नाम से मशहूर एक्ट्रेस निरुपा रॉय नजर आ रही हैं।

शास्त्री जी का निधन?

लाल बहादुर शास्त्री का निधन 11 जनवरी, 1966 को ताशकंद में हुआ था। 10 जनवरी को जब पाकिस्तान के साथ शांति समझौते पर दस्तखत हुए तो उसके 12 घंटे बाद ही उनकी मौत हो गई थी। लालबहादुर शास्त्री की मौत पर काफी सवाल खड़े हुए थे, लेकिन उनके जवाब आज तक नहीं मिले हैं। हालांकि, आधिकारिक तौर पर उनकी मौत का कारण हार्ट अटैक बताया गया।

लाल बहादुर शास्त्री की जिंदगी जितनी सुलझी थी उनकी मौत की कहानी उतनी ही उलझी है हमारे देश की सरकार हर साल उनकी जयंती तो मानती है परन्तु इनकी अंतिम विदेश यात्रा पर हुयी उनकी मर्त्यु पर जाँच नहीं करती है।