NDRF के बहादुरों को नेताओं ने 18वें स्थापना दिवस की बधाई दी
NDRF के बहादुरों को नेताओं ने 18वें स्थापना दिवस की बधाई दीSocial Media

NDRF के बहादुरों को नेताओं ने 18वें स्थापना दिवस की बधाई दी

NDRF का आज 18वां स्थापना दिवस है, इस मौके पर प्रधानमंत्री समेत कई नेताओं ने एनडीआरएफ के सभी कर्मियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है।

NDRF Raising Day 2023: देश में जब भी कोई प्राकृतिक आपदा या संकट की परिस्थिति आती है, तब NDRF ही सबसे पहले देश की सेवा में आगे आता है। ऐसे में आज 19 जनवरी का दिन राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) के लिए बेहद खास दिन है, जिसके चलते उन्‍हें देश के प्रधानमंत्री समेत तमाम नेताओं की ओर से बधाई व शुभकामनाएं मिल रही है। दरअसल, आज NDRF का 18वां स्थापना दिवस है।

NDRF की वीरता काबिले तारीफ है :

'आपदा सेवा सदैव' के ध्येय वाक्य का संकल्प लेकर दुर्गम परिस्थितियों में सेवाकार्य के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के स्थापना दिवस पर सभी जवानों को हार्दिक शुभकामनाएं। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वविटर अकाउंट पर ट्वीट जारी कर NDRF को स्थापना दिवस की बधाई दी है। इस दौरान उन्‍होंने कहा, ''NDRF को स्थापना दिवस की बधाई। वे सबसे चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में लोगों की सहायता करने के लिए सराहनीय प्रयास कर रहे हैं। इनकी वीरता काबिले तारीफ है। भारत आपदा प्रतिरोधी बुनियादी ढांचे के निर्माण सहित आपदा प्रबंधन तंत्र को मजबूत करने के लिए कई प्रयास कर रहा है।''

एनडीआरएफ के बहादुरों को उनके स्थापना दिवस के अवसर पर मेरी शुभकामनाएं। एनडीआरएफ की यात्रा साहस और पेशेवर उत्कृष्टता के प्रति प्रतिबद्धता के अनुकरणीय कार्यों से भरपूर है। मैं उन्हें उन तमाम जिंदगियों के लिए सलाम करता हूं, जो उन्होंने खुद को खतरे में डालकर बचाईं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के स्थापना दिवस पर NDRF के सभी साहसी एवं बहादुर जवानों को हार्दिक शुभकामनाएं। प्राकृतिक आपदा एवं अन्य विपरीत परिस्थितियों में अपनी कर्तव्यनिष्ठा के साथ नागरिकों की रक्षा हेतु दिए जा रहे आपके अद्वितीय समर्पण को कोटि-कोटि नमन।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल को उसके स्थापना दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं। आपदा प्रतिक्रिया के दौरान बल द्वारा दिखाई गई प्रतिबद्धता सराहनीय है। एनडीआरएफ उच्चतम स्तर के व्यावसायिकता, दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत का प्रदर्शन करके बहुमूल्य मानव जीवन को बचा रहा है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल महान शक्ति और साहस का प्रतीक रहा है। आपदाओं के दौरान रक्षा की पहली पंक्ति के रूप में, आपके त्रुटिहीन दृढ़ संकल्प और बलिदान को मान्यता और सम्मान दिया जाता है। एनडीआरएफ स्थापना दिवस पर एनडीआरएफ के सभी कर्मियों को मेरी शुभकामनाएं।

नीतिन गडकरी

बता दें कि, प्राकृतिक या मानवकृत किसी भी आपदा व संकट की स्थिति में सहायता के उद्देश्य से एनडीआरफ की स्थापना आज ही की तारीख 19 जनवरी को साल 2006 में आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत हुई थी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co