Dev Uthani Ekadashi 2022
Dev Uthani Ekadashi 2022Social Media

Dev Uthani Ekadashi 2022: देवउठनी एकादशी के पावन पर्व की नेताओं ने दी शुभकामनाएं

Dev Uthani Ekadashi 2022: देश के तमाम नेताओं ने देवउठनी एकादशी एवं तुलसी विवाह की देश व प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी है।

Dev Uthani Ekadashi 2022: साल भर में पड़ने वाली 24 एकादशियों में कार्तिक मास के शुक्लपक्ष में पड़ने वाली देवउठनी एकादशी का बहुत ज्यादा धार्मिक महत्व है, इस साल देवउठनी एकादशी एवं तुलसी विवाह का पावन पर्व आज यानि 4 नवंबर, 2022 को है। देवउठनी एकादशी को बहुत ज्यादा शुभ और फलदायी माना गया है। ऐसे में आज देश के तमाम नेताओं ने देवउठनी एकादशी एवं तुलसी विवाह की हार्दिक शुभकामनाएं दी है।

CM योगी ने प्रदेश वासियों को दी बधाई :

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने ट्वीट कर प्रदेश वासियों को बधाई व शुभकामना देते हुए अपने संदेश में लिखा- देवोत्थान एकादशी व तुलसी विवाह की सभी प्रदेश वासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। जगत पालक भगवान विष्णु और माता तुलसी की कृपा से सभी का जीवन सुख-शांति एवं समृद्धि से परिपूर्ण हो। संपूर्ण सृष्टि में आरोग्यता का वास हो।

राजनाथ सिंह ने दी शुभकामना :

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एकादशी और इगास के पावन पर्व के मौके पर अपने ट्वीट में यह संदेश साझा किया और लिखा- देवोत्थान एकादशी और इगास के पावन पर्व की आपको एवं विशेष रूप से उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के सभी भाइयों-बहनों को हार्दिक शुभकामनाएं। यह पर्व आप सभी के जीवन में समृद्धि, स्वास्थ्य और सुख की अभिवृद्धि करे, यही मंगलकामना है।

महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी। आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।। आप सभी को देवोत्थान एकादशी एवं तुलसी विवाह की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा

बता दें कि, देवउठनी एकादशी को हरि प्रबोधिनी एकादशी भी कहते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दीपावली के बाद आने वाली एकादशी के दिन पूरे चार महीने बाद योगनिद्रा से भगवान विष्णु जागते हैं, इसीलिए इसे देवोत्थान एकादशी कहा गया है। इस दिन भगवान विष्णु के भक्त व्रत रखते हैं और उनकी विशेष पूजा-अर्चना करते है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जिस मनोरथ का फल त्रिलोक में ना मिल सके वह देवोत्थान एकादशी का व्रत करके प्राप्त किया जा सकता है, देवोत्थान एकादशी से पूर्णिमा तक भगवान शालिग्राम एवं तुलसी माता का विवोहत्सव का पर्व मनाया जाता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co