कॉमनवेल्थ गेम की तरह ओलंपिक में भी बजेगा भारत का डंका : अनुराग ठाकुर

अनुराग ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन का ही परिणाम है कि आज हमारे खिलाड़ी कॉमनवेल्थ गेम्स में शानदार प्रदर्शन कर प्रत्येक भारतीय को गौरवान्वित कर रहे हैं।
अनुराग ठाकुर ने पेफी द्वारा आयोजित कार्यक्रम को किया संबोधित
अनुराग ठाकुर ने पेफी द्वारा आयोजित कार्यक्रम को किया संबोधितSocial Media

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा खेल एवं युवा कल्याण मामलों के मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन का ही परिणाम है कि आज हमारे खिलाड़ी कॉमनवेल्थ गेम्स में शानदार प्रदर्शन कर प्रत्येक भारतीय को गौरवान्वित कर रहे हैं। भारत आगामी ओलंपिक में भी इतिहास रचेगा। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर खेलों की मजबूती की जो नींव रखी जा रही है वह आगामी अमृत काल में मील का पत्थर साबित होगा।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने शनिवार को कंस्टीटूशन क्लब में फिजिकल एजुकेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पेफी) के द्वारा "भारत में ओलंपिक पुनर्जागरण के महत्व" पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आने वाला समय भारत का है। उन्होंने देश में खेलों के विकास और सभी के लिए खेलों में समान अवसर पैदा करने के लिए भारत सरकार द्वारा सफलतापूर्वक लागू की गई विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन ने पूरे खेल जगत की ओर से केंद्रीय मंत्री श्री ठाकुर और प्रतिष्ठित पैनल को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने आगे दोहराया कि पेफी सभी के लिए समान अवसर पैदा करने के लिए देश में खिलाड़ियों के कल्याण और खेल के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

ठाकुर ने खेलो इंडिया और फिट इंडिया जैसी पहलों के बारे में विस्तार से बात की और दर्शकों को इन पहलों में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत खेल के क्षेत्र में एक महाशक्ति बनना चाहता है, जो तभी हो सकता है जब अधिक से अधिक लोग खेलों में भाग लें। उन्होंने कहा कि सरकार एथलीटों को सर्वोत्तम सुविधाएं और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है, जिसके परिणामस्वरूप ओलंपिक खेलों और अन्य अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में भारत के प्रदर्शन में सुधार हुआ है। पिछले 5-6 सालों में देश के खेल बजट में काफी इजाफा हुआ है। खेल मंत्रालय पूर्व खिलाड़यिों के कल्याण और पारंपरिक भारतीय खेलों के उत्थान के लिए देश भर में कई योजनाओं को लागू कर रहा है। उन्होंने छोटे बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया और वादा किया कि युवा मामलों और खेल मंत्रालय उन्हें सर्वोत्तम बुनियादी ढांचा और प्रशिक्षण सुविधाएं प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास करेगा। साथ ही फिटनेस उद्योग और खेलों में डोपिंग के सामान्यीकरण पर भी अपनी चिंता व्यक्त की। उन्होंने खेलों में नशीली दवाओं के प्रयोग को समाप्त करने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे विभिन्न कदमों की भी जानकारी दी। उन्होंने डोपिंग रोधी पर जागरूकता पैदा करने और ऐसे उच्च मानकों की पैनल चर्चा आयोजित करने में पेफी की भूमिका की सराहना की।

फिजिकल एजुकेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पेफी) ने युवा मामले और खेल मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वावधान में एक पैनल चर्चा का आयोजन किया। पैनल चर्चा के मुख्य अतिथि भारत सरकार के युवा मामले एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर थे। पैनल में भारत के शीर्ष खेल पेशेवर, रणनीतिकार और विशेषज्ञ शामिल थे जो भारत में ओलंपिक 2024 की तैयारियों और जागरूकता की वर्तमान स्थिति पर अपनी राय और विश्लेषण प्रस्तुत करने के लिए एक साथ आए थे। यह आयोजन भविष्य के रोडमैप को प्रस्तुत करने पर भी केंद्रित था जो भारत में ओलंपिक परि²श्य और खेलों में हमारी वैश्विक स्थिति को बदल सकता है।इस मौके पर आयोजित पैनल चर्चा में ओलंपिक पदक विजेता, कुलपति दिल्ली खेल विश्वविद्यालय कर्णम मल्लेश्वरी, पद्मश्री और द्रोणाचार्य अवार्डी डॉ. सुनील डबास, द्रोणाचार्य अवार्डी डॉ. ए.के. बंसल, अर्जुन अवार्डी राजकुमार सांगवान, अर्जुन अवार्डी अंजुम मौदगिल, पूर्व डीन एलएनआईपीई ग्वालियर डॉ. ए.के. उप्पल, डॉ. जी किशोर, प्रिंसिपल, एलएनसीपीई त्रिवेंद्रम, डॉ शैलेश प्रोफेसर आरएमएल और डॉ. सुनीता गोदारा ने भाग लिया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co