गुजरात में लम्पी बीमारी का कहर, सीएम पटेल ने ढेलेदार वायरस टीकाकरण केंद्र का किया दौरा

कोरोना और मंकीपॉक्स के बाद लम्पी वायरस (Lumpy Virus) ने कोहराम मचा दिया है। गुजरात और राजस्‍थान में इसके सबसे ज्‍यादा मामले सामने आ रहे हैं।
गुजरात में लम्पी बीमारी का कहर
गुजरात में लम्पी बीमारी का कहरSocial Media

गुजरात, भारत। कोरोना और मंकीपॉक्स के बाद लम्पी वायरस (Lumpy Virus) ने कोहराम मचा दिया है। रास्थान और गुजरात के पालतू पशुओं पर एक खतरनाक बीमारी का कहर बरपाया हुआ है। इस बीमारी के चलते इन राज्यों में कई गायों की मौत हो चुकी है। वहीं, इस बीमारी को खत्म करने के लिए प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए पीड़ित मवेशियों का इलाज और टीकाकरण किया जा रहा है।

किया जा रहा है पीड़ित मवेशियों का इलाज और टीकाकरण:

बता दें कि, गुजरात के जामनगर जिले में लम्पी स्किन रोग से पीड़ित मवेशियों का इलाज और टीकाकरण किया जा रहा है। इस बारे में बात करते हुए पशुपालन विभाग के सचिव ने बताया, "हमारे पास अभी 30 लाख से ज़्यादा का वैक्सीन स्टॉक है। पूरे राज्य में मवेशियों की आबादी करीब 1 करोड़ है लेकिन 1% से भी कम मवेशी इससे प्रभावित हैं।"

सीएम भूपेंद्र पटेल ने किया इलाज और टीकाकरण किए जा रहे केंद्र का दौरा:

जानकारी के लिए बता दें कि, गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने आज जामनगर जिले में, लम्पी स्किन रोग से प्रभावित मवेशियों का इलाज और टीकाकरण किए जा रहे केंद्र के स्थल का दौरा किया।

पशुपालन और गाय पालन मंत्री ने कही यह बात:

वहीं, गुजरात के पशुपालन और गाय पालन मंत्री राघवजी पटेल ने बताया कि, गुजरात में अभी के समय 62 हजार पशु जो लम्पी से पीड़ित थे, उसमें से 46 हजार से ज्यादा पशु स्वस्थ हो गए हैं और 2200 से अधिक पशुओं की मृत्यु हुई है। सरकार स्थिति के मुताबिक इस बिमारी पर नियंत्रण करने के लिए कार्रवाई कर रही है।"

लम्पी वायरस को लेकर अशोक गहलोत ने की ये अपील:

आपको बता दें कि, लम्पी वायरस राजस्थान और गुजरात में कहर बरपा रहा है। राजस्थान में फैले लम्पी वायरस को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अशोक ने पशुपालकों से सावधान रहने की अपील की है। इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि, राज्‍य सरकार इसकी रोकथाम व बचाव के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। गहलोत ने पिछले दिनों ट्वीट करके कहा कि गोवंश में फैल रहा लम्पी चर्म रोग अत्यंत संक्रामक है। राज्य सरकार इसकी रोकथाम एवं इससे बचाव के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। अपने पशुओं को इससे बचाने के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन करें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co