बड़वानी में पिंजरे में कैद मादा तेंदुआ
बड़वानी में पिंजरे में कैद मादा तेंदुआPriyanka Yadav-RE

MP News: बड़वानी जिले में पिंजरे में कैद मादा तेंदुआ, वन विभाग ने खेत में छोड़ा

Barwani News: बड़वानी में तीन वर्षीय मादा तेंदुआ पिंजरे में कैद हुई, किसान की सूचना पर वन विभाग ने केले के खेत मे पिंजरा लगाया था।

MP News: कई दिनों से खेत में घूम रही थी मादा तेंदुआ पिंजरे में कैद हुई है। बता दें, प्रदेश के बड़वानी वन मंडल के ग्राम पिपलूद स्थित एक खेत में तीन वर्षीय मादा तेंदुआ पिंजरे में कैद हुई है, किसान की सूचना पर वन विभाग ने केले के खेत मे पिंजरा लगाया था। मादा तेंदुआ को पिंजरे में कैद करने के बाद वन विभाग ने खेत में छोड़ा है।

बता दें, बड़वानी के वनमण्डलाधिकारी एस एल भार्गव ने बताया कि 3 दिन पूर्व किसान जगदीश यादव और कल शाम लोकसभा सांसद पटेल ने सूचित किया था कि ग्राम पिपलूद में एक तेंदुआ खेतों में दिखाई दे रहा है, इस पर अधिकारियों और वन अमले ने ग्राम पिपलूद का दौरा किया था उन्होंने बताया कि किसान के गन्ने के खेत में 2 दिन पूर्व छोटा पिंजरा लगाया गया था किन्तु तेंदुआ उसमें कैद नहीं हो सका।

इसके बाद वन अमले ने कल शाम 5 बजे एक बड़ा पिंजरा लगाया और इसके अंदर बकरी का शिकार रखा गया। पिंजरा लगाने के बाद लोगो को समझाइश भी दी गई कि सतर्क रहे। आसपास के ग्रामीणों को सचेत भी किया कि वे खेत व आसपास में ना घूमे। उसके बाद खेत के आसपास वनविभाग की टीम की ड्यूटी भी लगाई गयी। इसी दौरान टीम को रात पता चला कि देर रात तेंदुआ पिंजरे में आ गया है। जिसकी सूचना पर वे टीम सहित में मौके पर पहुंचे व तेंदुआ लेकर वन विभाग की टीम बड़वानी वन मंडल आ गयी।

उन्होंने बताया कि रात में ही तेंदुए का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। लगभग 3 वर्ष की मादा तेंदुआ स्वस्थ हालत में पायी गयी जिसे वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर पाटी विकासखंड के सघन जंगल में छोड़ दिया गया है। उन्होंने बताया कि जिस ट्रैक्टर-ट्रॉली में तेंदुए को रखा गया था रात में उसकी हेड लाइट बंद हो गई, किन्तु आसपास चल रही वन विभाग की गाड़ियों की मदद से इसे सफलतापूर्वक गंतव्य तक पहुंचा कर तेंदुए को छोड़ दिया गया। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में काफी संख्या में तेंदुए हैं, और पानी पीने व शिकार के चलते नर्मदा नदी के आसपास विचरण करते हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co