राज्यपाल का जनता के नाम संदेश- भारत के गौरव पूर्ण अतीत, समृद्ध परम्पराओं के अनुरूप कर्मपथ पर चलें

भोपाल, मध्यप्रदेश। गणतंत्र दिवस पर राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने प्रदेश की जनता के नाम संदेश दिया, साथ ही राज्यपाल ने केंद्र और राज्य की योजनाओं का जिक्र किया।
राज्यपाल का जनता के नाम संदेश
राज्यपाल का जनता के नाम संदेशSocial Media
Submitted By:
Priyanka Yadav

हाइलाइट्स-

  • राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस पर भोपाल में आयोजित मुख्य समारोह को किया संबोधित

  • इस दौरान राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने प्रदेश की जनता के नाम संदेश दिया

  • साथ ही राज्यपाल ने केंद्र और राज्य की योजनाओं का जिक्र किया

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज राज्यपाल मंगुभाई पटेल (Mangubhai C. Patel) ने 75वें गणतंत्र दिवस पर राजधानी भोपाल में आयोजित मुख्य समारोह को संबोधित कर प्रदेश की जनता के नाम संदेश दिया और कहा कि, वे भारत के गौरवपूर्ण अतीत और समृद्ध सांस्कृतिक परम्पराओं के अनुरूप निरंतर कर्म पथ पर चलते हुए मध्यप्रदेश को विकसित एवं आत्म-निर्भर बनाने में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दे।

राज्यपाल ने कहा कि, यह गर्व का विषय है कि हम भारत के लोग संविधान में अंतर्निहित न्याय, स्वतंत्रता, समता, एकता, अखंडता और बंधुता के मार्ग पर चलते हुए निरंतर प्रगति-पथ पर अग्रसर हैं। सरकार का लक्ष्य बिल्कुल स्पष्ट है। पहला सभी वर्गों, क्षेत्रों का उत्थान और सशक्तिकरण, दूसरा जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ अंतिम पक्ति के अंतिम व्यक्ति तक पहुँचाना तीसरा, प्रदेश के चहुँमुखी विकास के लिए भौतिक अधोसंरचना को अधिक से अधिक सुदृढ़ बनाना। PM मोदी द्वारा संकल्प-पत्र में दी गई गारंटियों को पूरा कर मध्यप्रदेश को देश का सबसे अग्रणी राज्य बनाना है।

केंद्र-राज्य की योजनाओं का राज्यपाल ने किया जिक्र

इस दौरान राज्यपाल ने केंद्र और राज्य की योजनाओं का जिक्र किया। राज्यपाल पटेल ने कहा कि, प्रधानमंत्री के भारत को अमृतकाल में विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने के संकल्प की पूर्ति के लिए राज्य सरकार का लक्ष्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 45 लाख करोड़ रुपए के स्तर तक ले जाने का है। मध्यप्रदेश में सांस्कृतिक अभ्युदय का एक महापर्व गतिमान है। महाकाल महालोक परिसर की तर्ज पर 18 लोकों के निर्माण के रोडमैप पर तेजी से काम किया जा रहा है। संत शिरोमणि श्री रविदास स्मारक, रानी दुर्गावती स्मारक और श्रद्धेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी स्मारक भावी पीढ़ियों के लिए नए प्रेरणा पुंज के रूप में स्थापित होंगे।

  • केन्द्र सरकार से भोपाल में 15 करोड़ रुपए की लागत से सिटी म्यूजियम की स्थापना की स्वीकृति प्राप्त हुई है।

  • प्रदेश के चित्रकूट, खजुराहो, उज्जैन एवं भोपाल में सांस्कृतिक वन बनाए जा रहे हैं। शहरी क्षेत्रों में पर्यावरण और जैव-विविधता के संवर्धन के लिए 100 नगर वन क्षेत्र स्थापित करने का लक्ष्य है।

  • उज्जैन स्थित श्री महाकाल महालोक के नीलकण्ठ वन परिसर एवं अवंतिका हाट के मध्य स्वच्छ स्ट्रीट फूड हब ’प्रसादम्’ का शुभारंभ किया गया है।

आगे राज्यपाल ने कहा कि, पीएम आयुष्मान भारत हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर मिशन के अंतर्गत साढ़े 3 करोड़ रुपए से अधिक की लागत की 3 जिलों की इण्टीग्रेटेड पब्लिक हेल्थ लैब्स का लोकार्पण और 13 जिलों की लैब्स का भूमि-पूजन किया गया है। प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों में 132 प्रकार की, प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में 45 प्रकार की और उप-स्वास्थ्य केन्द्रों में 15 प्रकार की नि:शुल्क जाँचें उपलब्ध हैं। MP , देश का पहला राज्य है जहाँ पब्लिक हेल्थ कैडर बनाया गया है। आगामी वर्ष में प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों में 22 आयुष विंग प्रारंभ करने का लक्ष्य है। प्रदेश में भारत सरकार के सहयोग से 06 तथा राज्य बजट से 09 नए मेडिकल कॉलेज स्थापित किए जा रहे हैं। आम-जनता की मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के निराकरण के लिए ’मनहित ऐप’ लांच किया गया है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co