रेन वॉटर हार्वेस्टिंग
रेन वॉटर हार्वेस्टिंगसांकेतिक चित्र

Gwalior : 75 गांवों के घरों में कराई जाएगी रेन वाटर हार्वेस्टिंग

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : बेसली नदी को पुनर्जीवित करने के लिए केंद्रीय जलशक्ति मंत्रालय ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत काम शुरू कराया है। ये प्रोजेक्ट सफल होने पर इसे देशभर में लागू किया जाएगा।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। बेसली नदी को पुनर्जीवित करने के अभियान के तहत 75 गांवों के घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग शुरू कराई जाएगी। इसके लिए बेसली नदी पुनर्जीवन अभियान के पदाधिकारियों ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करा ली है। बरसात के मौसम में 11.81 करोड़ लीटर पानी को संग्रहित कर गांवों के बोरवेल और ट्यूबवेल को रिचार्ज करने का काम किया जाएगा। ये वो गांव हैं, जो बेसली नदी के क्षेत्र में पड़ते हैं, लेकिन वाटर हार्वेस्टिंग की सुविधा न होने के कारण वर्षा जल यूं ही बहकर बर्बाद हो जाता है।

बेसली नदी को पुनर्जीवित करने के लिए केंद्रीय जलशक्ति मंत्रालय ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत काम शुरू कराया है। ये प्रोजेक्ट सफल होने पर इसे देशभर में लागू किया जाएगा। नदी का जलग्रहण क्षेत्र 46 हजार हेक्टेयर है और इसमें बरसात के मौसम में 430 मिलियन क्यूबिक मीटर (एमसीएम) पानी बेकार बह जाता है। ऐसे में विशेष उपाय कर इस पानी को संग्रहित किया जाएगा, ताकि वर्षभर नदी के जल का उपयोग किया जा सके। वहीं नदी के किनारे व उप बेसिन में स्थित 45 पंचायतों के 75 गांवों में भू-जल स्तर बहुत तेजी से कम हो रहा है। पिछले कुछ वर्षों में यहां चार मीटर तक भू-जल स्तर गिरा है। इसको देखते हुए अब इन गांवों के घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग के लिए वाटर हीरो पंकज तिवारी से डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कराई गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार प्रत्येक गांव में 20 हजार वर्गफीट क्षेत्रफल को कवर करते हुए वाटर हार्वेस्टिंग कराई जाएगी और इससे हर गांव में 15.75 लाख लीटर पानी की सालाना बचत हो सकेगी। इस प्रकार 75 गांवों में कुल 15 लाख वर्गफीट क्षेत्रफल में छतों को कवर करते हुए वाटर हार्वेस्टिंग कर 11 करोड़ 81 लाख 25 हजार लीटर पानी सालभर में बचाया जा सकेगा।

गांवों को होगा लाभ :

बेसली नदी का उद्गम भदावना जल प्रपात से होता है, जो उटीला के जंगलों में स्थित पहाड़ों पर है। भदावना जल प्रपात एक पिकनिक स्पाट के साथ ही धार्मिक स्थल भी है। बेसली नदी गंगा बेसिन में सिंध नदी की सहायक है। पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न कारणों से इस नदी की स्थिति खराब हुई है। इसके उद्गम से गोहद बांध तक इस नदी का प्रवाह विलुप्त होता जा रहा है। नदी के जलग्रहण क्षेत्र में भूजल तेजी से कम हो रहा है। इसके किनारे व उप-बेसिन में स्थित 45 पंचायतें इस स्थिति के कारण समस्याओं का सामना कर रही हैं और गांवों में पानी का संकट गहराता जा रहा है। वाटर हार्वेस्टिंग होने से गांवों में बोरवेल और कुएं रिचार्ज हो सकेंगे।

डीपीआर तैयार कराई है :

जलशक्ति मंत्रालय एवं अध्यक्ष बेसली नदी अभियान निदेशक गिर्राज गोयल ने बताया कि बेसली नदी पुनर्जीवन अभियान के अंतर्गत 45 ग्राम पंचायतों के 75 गांवों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग कराने के लिए डीपीआर तैयार कराई गई है। वाटर हार्वेस्टिंग भी इस अभियान का महत्वपूर्ण घटक है। इसके अलावा किसानों को रविवार को मेड़बंदी का प्रशिक्षण भी दिया गया है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co