नगर निगम ग्वालियर
नगर निगम ग्वालियरSocial Media

Gwalior : जनवरी के प्रथम सप्ताह आएगी स्वच्छता सर्वेक्षण की टीम

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : निगमायुक्त ने दो घंटे की बैठक में दिए दिशा निर्देश। बैठक से अनुपस्थित रहे उपयंत्री अभिषेक प्रसाद से छीने सारे काम।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। स्वच्छता सर्वेक्षण 2023 की सभी तैयारियां अभी से पूरी की जानी है। इसके लिए सभी जुट जाएं। चारों विधानसभाओं में 10-10 कॉलोनी चिन्हित करें। इन कॉलोनियों से शत प्रतिशत गीला एवं सूखा कचरा अलग कराया जाए। इसकी जिम्मेदारी चारों उपायुक्तों को सौंपी जा रही है।पिछले सर्वेक्षण में जो गलतियां की गई थी उन्हें सुधारे। यह निर्देश निगमायुक्त किशोर कन्याल ने दिए। वह मंगलवार को निगम मुख्यालय में स्वच्छता सर्वेक्षण की समीक्षा कर रहे थे। इस बैठक से अनुपस्थित रहे प्रभारी सहायक यंत्री अभिषक प्रसाद से सारे काम छीनकर जेडओ राकेश कश्यप को देने के निर्देश भी निगमायुक्त ने दिए।

बैठक के दौरान निगमायुक्त ने निर्देश देते हुए कहा कि वाटर बॉडी, लैण्ड फिल साईड एवं सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण करने टीम जनवरी के प्रथम सप्ताह में आ सकती है। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली जाए। पिछली वाटर 7 स्टार रैटिंग एवं वाटर प्लस में शामिल न होने के जो कारण रहे उन्हें हर हाल में दूर किया जाए। नालियों पर जालियां लगाई जाए और उन्हें हरे रंग से पोत दें। इसके अलाव सभी वार्डों में डस्टबिन लगाए जाएं। कचरा समय पर उठे और हर घर तक गाड़ी समय पर पहुंचे इसका विशेष ध्यान रखा जाए। निगमायुक्त ने निर्देश दिए कि सीवर प्रोजेक्ट पर काम करने वाले अधिकारी सभी मार्गों पर ऊंचे नीचे हुए सीवर चेम्बर ठीक कराएं। जेडओ बुधवार से भी दीवारों पर पेंटिंग शुरू कराएं। पेटिंग के लिए जो दीवारें छूट गई हैं उनकी सूची बनाकर प्रस्ताव तैयार करें।

थूकने, खुले में पेशाब करने एवं पॉलीथिन पर करें जुर्माना :

निगमायुक्त ने निर्देश दिए है कि रोका टोकी फिर से शुरू करें। खुले में थूकने एवं पेशाब करने वालों पर जुर्माना लगाएं। पॉलीथिन का इस्तेमाल करने वालों पर भी लगातार जुर्माना करें। जो लोग कचरा फैला रहे हैं उनके खिलाफ सख्त एक्शन ले। निर्माणाधीन भवनों के सामने फैली सामग्री पर भी जुर्माना लगाएं। निर्माणाधीन भवन पर हरी मेटी अवश्य डाली जाए इसका ध्यान रखें।

कौन एमटेक है हाथ खड़े करें :

बैठक के दौरान सहायक प्रभारी यंत्री अभिषेक प्रसार अनुपस्थित थे। इस पर निगमायुक्त ने गंभीर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने अभिषेक प्रसाद से सभी कार्य वापस लेते हुए अन्य अधिकारी को सौंपने के लिए कहा। उन्होंने पूछा कि जो भी एमटेक किए हैं वह हाथ खड़े करें। आधा दर्जन उपयंत्री एवं सहायक यंत्रियों ने अपने हाथ खड़े कर दिए। निगमायुक्त ने राकेश कश्यप को अभिषेक प्रसाद के सभी काम सौंप दिए है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co