जानें केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री के भाषण की बड़ी बातें
जानें केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री के भाषण की बड़ी बातेंSocial Media

Indore: प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का आज पहला दिन, जानें केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री के भाषण की बड़ी बातें

इंदौर, मध्यप्रदेश। प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन के पहले दिन उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही ये बातें...

इंदौर, मध्यप्रदेश। इंदौर में तीन दिन चलने वाला प्रवासी भारतीय सम्मेलन रविवार को शुरू हो गया। ऐसे में आज प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का पहला दिन है। पहले दिन उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कई बातें कही है, आइये जानें केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री के भाषण की बड़ी बातें...

केंद्रीय मंत्री ने उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा-

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि आप सबका दिल की गहराइयों से स्वागत और अभिनंदन करता हूं। एक बार नहीं 6 बार लगातार इंदौर देश का सबसे स्वच्छ शहर चुना गया है। यह सरकार और समाज के सहयोग से ही संभव हो पाया है।

  • हमारे युवाओं ने पिछले 8 वर्षों में भारत को दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप देश बना दिया है। प्रधानमंत्री मोदी विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता है।

  • 80 हजार से ज्यादा स्टार्टअप्स के साथ आज भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप्स नेशन है। जब दुनिया कोरोना से लड़ रही थी तो भारत के युवा आपदा को अवसर में बदलकर यूनिकॉर्न बना रहे थे।

  • दुनिया भारत की तरफ बड़ी उम्मीद से देख रही है। आइए हम मिल कर दुनिया की इस उम्मीद को पूरा करें। आपके पास संसाधन है, भारत में मैनपावर है नेतृत्व करेंगे। यही भारत की विजय है।

अपने उद्बोधन के दौरान मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा

प्रवासी भारतीय सम्मेलन के तहत युवा प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह के अपने उद्बोधन के दौरान मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, आने वाले वर्षों में भारत को ज्ञान शक्ति, अर्थशक्ति और आत्मनिर्भर बनाने के लिए नवाचार और तकनीकी जरूरी है एवं भारत के युवा लगातार नवाचार कर रहे हैं। सीएम ने कहा कि युवा वह नहीं है जिसकी उम्र 15 से 35 साल की होती है। युवा वह है जिसके पैरों में गति, सीने में आग और आंखों में सपने होते हैं। जो अत्याचार और अन्याय से डरता नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत दुनिया को दिशा दिखा रहा है।

मुख्यमंत्री बोले- आने वाले वर्षों में भारत को ज्ञान शक्ति, अर्थशक्ति और आत्मनिर्भर बनाने के लिए नवाचार एवं तकनीक जरूरी है। भारत के युवा नवाचार कर रहे हैं। अगर गूगल माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल, एडोब ,आईबीएम और मास्टरकार्ड जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के ऑफिस में देखा जाए तो केवल भारतीय ही भारतीय नजर आएंगे। यह भारतीय मेधा और विश्वसनीयता है। हर कंपनी के डेवलपमेंट से लेकर बोर्ड रूम में भारतीय आसीन है। इसी क्रम में उन्होंने उच्च पदों पर आसीन कई भारतीयों के उदाहरण भी प्रस्तुत किए।

  • भारत के युवा नये-नये विचार के साथ कार्य कर रहे हैं। विचार को सफल बनाने के लिए रोडमैप और उस पर चलने के लिए परिश्रम, नदी की विपरीत दिशा में चलने का साहस करना पड़ता है, तब सफलता मिलती है।

  • आगे बढ़ने के लिए इनोवेशन के साथ टेक्नोलॉजी भी जरूरी है। भारत के प्रवासी युवाओं ने अपनी प्रतिभा के दम पर तकनीकी के क्षेत्र में अपना लोहा मनवाया है। कई जगह ऐसी स्थिति निर्मित हो गई है कि यदि भारतीय न हों तो काम ही ठप हो जाए।

  • समारोह में आए प्रवासी भारतीयों से कहा कि वे मध्यप्रदेश को पर्यटन की दृष्टि से अवश्य देखें। मध्यप्रदेश टाइगर स्टेट, लेपर्ड स्टेट, वल्चर स्टेट होने के बाद अब तो चीता स्टेट भी है।

नई संभावनाओं से भरा मध्यप्रदेश प्रोग्रेसिव नीतियों के साथ सभी प्रवासी भारतीयों का स्वागत करता है
मुख्यमंत्री शिवराज

नई संभावनाओं से भरा MP प्रोग्रेसिव नीतियों के साथ कर रहा सबका स्वागत

17वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान अपने बयान में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि "हमने केवल दिल के दरवाजे नहीं खोले, इंदौर के लोगों ने तो घरों के दरवाजे भी खोल दिए हैं। प्रवासी भारतीय आएं और यहां रहे। मध्यप्रदेश ऐसा प्रदेश है जिसके पास बुनियादी सुविधाएं हैं", निवेश के लिए पर्याप्त जमीन है, बिजली की निर्बाध आपूर्ति है, पानी की कोई कमी नहीं है, दक्ष मैनपॉवर है, इस प्रकार उद्योगों के लिए सारी अनुकूल परिस्थितियां हैं।

उन्होंने कहा कि आज मध्यप्रदेश की धरती पर पर्यटन जैसे क्षेत्र में भी अपार संभावनाएं हैं। मध्य प्रदेश टाइगर स्टेट, लेपर्ड स्टेट और अब चीता स्टेट भी है। यहां 3 वल्र्ड हेरिटेज, दो ज्योतिर्लिंग, 11 टाइगर रिजर्व हैं। प्रदेश की नीतियां निवेशक फ्रेंडली हैं, इसलिए प्रदेश ने निवेशकों को भी बुलाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का संकल्प लिया है, आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का होना जरूरी है।

- मध्यप्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश और रोजगार को बढ़ाने के लिए सरकार भरपूर मदद करेगी।

- मध्यप्रदेश में ओंकारेश्वर में 600 मेगावाट के फ्लोटिंग संयंत्र की स्थापना का कार्य हो रहा है। इसके साथ ही शाजापुर, नीमच, छतरपुर और मुरैना आदि स्थानों में नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में प्रयास किए जा रहे हैं।

- नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र को पर्याप्त बढ़ावा दिया गया है। पूर्व वर्षों में रीवा में सौर ऊर्जा परियोजना से लाभ लिया गया है।

- मध्यप्रदेश शरबती गेहूं और बासमती चावल के साथ मोटे अनाजों के उत्पादन को बढ़ावा देना चाहता है। नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश के लिए राज्य की नीति के अनुसार पूरी सहायता दी जाएगी।

CM बोले- आज से करीब 20 वर्ष पहले मध्यप्रदेश में बिजली, पानी और सड़कों से जुड़ी समस्याएं देखी जाती थीं। इन क्षेत्रों में व्यवस्थाएं मजबूत की गईं। आवश्यक अधोसंरचना के विकास और विभिन्न ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के माध्यम से उद्योगपतियों को आमंत्रित करने से निवेश आने लगा। योग्य युवाओं को काम मिलने लगा। प्रदेश की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ, मध्यप्रदेश अनेक क्षेत्रों में अग्रणी हो गया है। अब नवीन क्षेत्रों में कार्य प्रारंभ किया जा रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी, फार्मास्युटिकल, कृषि, पर्यटन, स्वास्थ्य, खाद्य प्रसंस्करण और टेक्सटाइल उद्योगों के विकास के ठोस कदम उठाये गये। मध्यप्रदेश में निवेश के लिये प्रवासी भारतीयों की भी रूचि बढ़ रही है। इस सम्मेलन में प्राप्त सुझावों और इसके पश्चात प्राप्त प्रस्तावों का संबंधित विभागों से परीक्षण करवाकर विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की नवीन कोशिशें की जायेंगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co