Madav Ashram
Madav AshramRE-Gwalior

माधव अंधाश्रम : 10 लाख की एफडी तुड़वाई पर काम क्या किया किसी को नहीं पता

कई साल पहले यशोधरा राजे सिंधिया यहां का दौरा कर आश्रम की जमीन को सुरक्षित करने बाउंड्रीवाल बनाने के लिए 25 लाख की मदद की थी।

ग्वालियर। शहर में नाका चन्द्रवदनी के पास रियासत काल के समय से अंधे बच्चो को पढ़ाने एवं रहने के लिए माधव अंधाश्रम का निर्माण कराया गया था ओर उसके लिए स्व. विजयाराजे सिंधिया ने 8 बीघा जमीन दान दी थी जिस पर आश्रम का निर्माण कराया गया था। अब वहीं आश्रम जीर्ण शीर्ण हालत में पहुंच गया है ओर उसकी जमीन पर कब्जे करने की कौशिश की जा रही है साथ ही उसमें रहने वाले बच्चो को भी भोजन-पानी के लिए दानदाताओ के भरोसे रहने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

माधव अंधाश्रम में पहले काफी संख्या में बच्चे रहते थे ओर उनको पढ़ाने के लिए काफी शिक्षक भी तैनात थे, लेकिन समय के हिसाब से अब उस तरह की व्यवस्था नहीं है, क्योकि पहले आश्रम के संचालन के लिए अध्यक्ष काम देखते थे, लेकिन पिछले 7-8 साल से अध्यक्ष कोई नहीं है ऐसे मेंं आश्रम का संचालन जिला पंचायत के तहत आने वाले सामाजिक न्याय विभाग कर रहा है। सूत्रो का कहना है कि माधव अंधाश्रम में जब तत्कालीन अध्यक्ष पुरूषोत्तम भार्गव थे तब करीब 10 लाख की एफडी बैंक में जमा थी ओर उससे मिलने वाले ब्याज से काफी काम आश्रम में होता था साथ ही बच्चो के बेहतर भोजन की भी व्यवस्था रहती थी, लेकिन अध्यक्ष पद खाली होने के बाद से सामाजिक न्याय विभाग ने काम देखना शुरू किया है उसी समय से बैंक में जमा एफडी तुडवा ली गई है पर उस पैसे का उपयोग कहां किया गया है किसी को नहीं पता है। आश्रम में हालात यह है कि उसमें बने कमरो के दरवाजे तक टूटे है, लेकिन कोई बदलने की संभावना फिलहाल नहीं दिखाई दे रही है जिससे जो बच्चे आश्रम मेंं रहते है उनके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है, क्योकि साफ सफाई न होने से जहां मच्छरो को प्रकोप बना रहता है वहीं कीड़े मकौड़े आने का भी खतरा बना रहता है।

25 लाख दिए थे यशोधरा राजे ने, बनाई थी बाउंड्री

कई साल पहले जब माधव अंधाश्रम की समस्याओ से तत्कालीन अध्यक्ष पुरुषोत्तम भार्गव मे यशोधरा राजे सिंधिया को अवगत कराया तो उन्होंने यहां का दौरा कर स्थिति को देखा था। इसके बाद उन्होंने आश्रम की जमीन को सुरक्षित करने बाउंड्रीवाल बनाने के लिए 25 लाख की मदद की थी। इस राशि से उस समय बाउंड्री बनाई गई थी, लेकिन भूमाफिया अब आश्रम की जमीन पर नजर लगाएं हुए है जिसके कारण बाउंड्री को तोड़ दिया गया है जिससे जानवर विचरण करते रहते है साथ ही जमीन भी कब्जा किए जाने की संभावना बनी हुई है।

यशोधरा राजे ने उस समय दानदाताओ के भरोसे बच्चे...

माधव अंधाश्रम में इस समय करीब 40 बच्चे रहते है, जो संगीत के क्षेत्र के साथ ही पढ़ाई के मामले में काफी आगे है। मोबाईल के वह इस तरह चलाते है जिस तरह से आमजन भी नहीं चला सकते जिससे समझा जा सकता है कि आंखो से नही दिखने के बाद भी बच्चे किस तरह से बेहतर शिक्षा ग्रहण कर रहे है, लेकिन उनको जो सुविधाएं मिलना चाहिए वह अब नहीं मिल रही है। अब हालत यह है कि आश्रम में रहने वाले बच्चो को भोजन के लिए भी दानदाताओ के  भरोसे रहने पड़ता है, क्योंकि सामाजिक न्याय विभाग बच्चो को भोजन तक की व्यवस्था कराने में असफल साबित हो रहा है। आश्रम में काफी संख्या में पेड़ लगे थे उनको भी कटवा दिया गया है साथ ही बाउंड्रीतोड़ कर जमीन कब्जा करने का प्रयास भी किया जा रहा है।

आश्रम के सूत्रो के कहना है कि दानदाताओ द्वारा महीने में करीब 20 दिन की भोजन की जाती है, लेकिन उस भोजन का भी हिसाब बनाकर अपना हिसाब किया जा रहा है जिससे समझा जा सकता है कि माधव अंधाश्रम में दूसरो के सहारे रहने वाले बच्चो के नाम भी भी खेला किया जा रहा है। निर्देश दिए थे कि आश्रम की सुरक्षा में 1-5 का गार्ड लगाया जाएं तो फिलहाल गार्ड तो रहता है, लेकिन आश्रम में जो काम होना चाहिए था वह नहीं किया गया है। जो कमरे बने है उनमें बारिश के समय पानी टपकता है साथ ही दरवाजे पूरी तरह से टूट चुके है पर उनको सही कराने की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है जबकि इस समय जिला पंचायत ने एक मैडम को आश्रम की व्यवस्था देखने की जिम्मेदारी दे रखी है, लेकिन मैडम कभी भी आश्रम में नजर नहीं आती जिससे समझा जा सकता है कि हालात क्या होगी।

इनका कहना है

माधव अंधाश्रम की व्यवस्था पहले काफी बेहतर हुआ करती थी बच्चो को बेहतर भोजन से लेक र शिक्षा का खासा ध्यान रखा जाता था। आश्रम की जमीन को बचाने के साथ ही उसके रखरखाव का भी ध्यान रखा जाता था, लेकिन जबसे आश्रम में अध्यक्ष नहीं है तबसे बच्चो को भोजन के लिए भी दूसरो के सहारे रहने मजबूर होना पड रहा है साथ ही आश्रम के भवन की हालत भी काफी जीर्णशीर्ण हो गई है जिससे कभी भी हादसा हो सकता है। इस मामले को लेकर कई बार अधिकारियो को अवगत कराया गया पर कोई परिणाम सामने देखने को नही मिला।

पुरुषोत्तम भार्गव, पूर्व अध्यक्ष माधव अंधाश्रम

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co